Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
Breast-biopsy-information-in-hindi

Breast Biopsy- स्तनों की बायोप्सी के प्रकार देखभाल एवं प्रक्रिया.

Breast Biopsy का अर्थ स्तन के ऊतकों (Tissues) के टुकड़ों को निकालना है, जिन्हें निकालकर जांच के लिए प्रयोगशाला यानिकी Laboratory में भेजा जाता है। यह स्थिति तब पैदा होती है जब अन्य परीक्षण अर्थात Tests दर्शाते हैं कि स्तन में कुछ ऐसा है जिसकी और गहराई से जांच होनी चाहिए तो स्तन बायोप्सी यानिकी Breast Biopsy की जरूरत पड़ सकती है। यदि स्तन में कोई गांठ मौजूद है, तो उसे बायोप्सी के समय ही निकाला जा सकता है | उस क्षेत्र के आसपास की लसिका ग्रंथियों की भी जांच की जा सकती है। जिस महिला की Breast Biopsy हुई है चिकित्सक अगली मुलाकात में उस महिला के बायोप्सी के परिणामों की उसके साथ समीक्ष कर सकते हैं, और अगर आगे Treatment की आवश्यकता हुई तो डॉक्टर इस विषय पर भी महिला के साथ विचार विमर्श करेंगे |

Breast Biopsy information-in-hindi


यद्यपि Biopsy Test के लिए किसी भी प्रकार की विशेष तैयारी की आवश्यकता नहीं होती है लेकिन फिर भी इस जांच से पहले चिकित्सक द्वारा मरीज को कुछ सलाह दी जा सकती हैं जैसे |

  • कहा जा सकता है कि परीक्षण के पहले आधी रात के बाद से कुछ न खाएं।
  • यह भी कहा जा सकता है की Biopsy Test के लिए आते वक्त अपने परिवार के किसी सदस्य को अपने साथ लेते आयें ताकि वह जांच के बाद घर पहुँचाने में मदद कर सके |

स्तनों की बायोप्सी कैसे की जाती है (Instruction need to be followed during test):

Test अर्थात जांच के दौरान चिकित्सक द्वारा मरीज को कुछ Instruction दिए जा सकते हैं जिनका Breast Biopsy test के दौरान अनुसरण किया जाना बेहद जरुरी होता है |

  • महिला से कहा जा सकता है की वह अपने कमर से ऊपर के कपड़े उतारकर अस्पताल का गाउन पहन लें ।
  • दवा देने के लिए मरीज के हाथ की एक नस में एक आईवी (अंतःशिरा) डाली जा सकती है। उसके बाद मेज पर लिटाकर चिकित्सक द्वारा बायोप्सी वाले स्थल को साफ किया जा सकता है।
  • Breast Biopsy करने से पहले डाक्टर स्थल को सुन्न करते हैं। इससे कुछ देर तक जलन हो सकती है। इसके बाद मरीज को सिर्फ दबाव महसूस होता है दर्द नहीं ।
  • परीक्षण किए जाने वाले स्थान का पता लगाने के लिए मैमोग्राम या अल्ट्रासाउंड किया जा सकता है

स्तनों की बायोप्सी के प्रकार (Types of Breast Biopsy in Hindi):

Breast Biopsy के विभिन्न प्रकार होते हैं कुछ मुख्य प्रकारों के नाम इस प्रकार से हैं |

  • Fine Needle Aspiration (FNA)

इस प्रकार की Breast Biopsy तब की जाती है जब स्तन में उभरी गाँठ को छूकर महसूस किया जा सके | Fine Needle Aspiration में डॉक्टर द्वारा Syringe से जुड़ी हुई सूई को गाँठ के भीतर डाला जाता है | उसके बाद Syringe में उतकों एवं द्रव के सैंपल एकत्र कर लिए जाते हैं इस क्रिया को करने में Syringe को हिलाया डूलाया जा सकता है | और उसके बाद गाँठ से सुई निकाल ली जाती है |

  • Core Needle Biopsy:

इस प्रकार की Breast Biopsy करने के लिए चिकित्सक द्वारा बड़ी सूई का सहारा लिया जाता है | इस क्रिया को करने में प्रभावित त्वचा को थोडा सा काटा जाता है | पप्रभावित स्थल पर सूई लगे जाती है | उतकों के कई सैंपल एकत्र कर लिए जाते हैं और उसके बाद सूई को निकाल दिया जाता है |

  • Stereotactic Biopsy:

इस प्रकार की Breast Biopsy स्तनों के ऐसे स्थल के लिए की जाती है जिन्हें महसूस नहीं किया जा सकता लेकिन मेमोग्राम में देखा जा सकता है | इस Breast Biopsy को करने के लिए महिला को ऐसे मेज पर लिटा लिया जाता है जिसमे स्तनों के लिए खुला स्थान पहले से बने रहते हैं उसके बाद स्तन को सुन्न कर लिया जाता है और स्तन में एक छोटा सा चीरा लगा लिया जाता है | चिकित्सक द्वारा स्तन को दबाकर चपटा कर लिया जाता है और Breast Biopsy के दौरान या पहले वास्तविक स्थल का पता लगाने के लिए एक्सरे किया जा सकता है | उतकों के सैंपल एकत्र करने के लिए स्तन में सुई डाली जाती है और सैंपल ले लेने के बाद सुई को निकल दिया जाता है |

  • Open Excisional Biopsy:

इस प्रकार की Breast Biopsy में स्तन में उपलब्ध गाँठ को सर्जरी के माध्यम से पूर्ण रूप से निकाल लिया जाता है | इस क्रिया को करते वक्त चिकित्सक द्वारा मरीज को ऐसी दावा दी जाती है ताकि स्तन का हिस्सा सुन्न हो जाय | उसके बाद चिकित्सक द्वारा गाँठ के आस पास के कुछ उतकों को निकालने के लिए Breast में चीरा लगाया जाता है | और चीरा लगे स्थल को टाँके के माध्यम से या फिर एक विशेष प्रकार की टेप से बंद कर दिया जाता है |

स्तनों की बायोप्सी के बाद देखभाल (Caring Need after Breast Biopsy):

Breast biopsy के बाद पीड़ित महिला को घर पर अनेकों सावधानियां बरतने की आवश्यकता होती है जिनकी संभावित लिस्ट कुछ इस प्रकार से है |

  • Breast Biopsy के बाद 24 घंटे तक 5 पौंड (2.3 किलो) से अधिक वजन न उठाएं। एक गैलन दूध का वजन 8 पौंड (3.6 किलो) से अधिक होता है।

० पीड़ित महिला सामान्य आहार ले सकती हैं ।

  • स्तन के जिस स्थल पर Breast Biopsy हुई हो वहां पर घाव, असुविधा, सूजन और थोड़ा रिसाव हो सकता है।
  • महिला चाहे तो सहारे के लिए स्पोर्टस ब्रा पहन सकती हैं।
  • महिला चाहे तो जरूरत के मुताबिक बिना नुस्खे के बिकने वाली ऐसी दर्दनिवारक दवा ले सकती हैं जिसमें एस्प्रिन न हो।
  • महिला चाहे तो सूजन और घाव कम करने के लिए जरूरत के मुताबिक अपने स्तन पर बर्फ की थैली रख सकती हैं । त्वचा पर सीधे बर्फ लगाने से बचना चाहिए ।
  • याद रहे Breast Biopsy के दौरान हुए चीरे पर टांका या विशेष टेप लगाया जाता है, यदि टांका लगा हो तो उसे डॉक्टर के क्लिनिक में हटाया जाना चाहिए |

० यदि महिला की Open Excisional Biopsy की गई है, तो महिला शॉवर ले सकती है लेकिन उसे इस दौरान टब में नहीं नहाना चाहिए |
यदि Breast Biopsy किये गए स्थान से खून बह रहा हो, स्थल पर सूजन, लाली , गर्मी या रिसाव बढ़ रहा हो, दवा से दर्द कम न हो रहा हो तो ऐसी स्थिति में महिला को तुरंत चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए |

No Comment Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *