खान पान के सही तरीके (Right diet rule in Hindi).

हेल्थ को स्वस्थ्य रखने के लिए यदि हम खान पान के सही तरीके अर्थात डाइट रुल की बाते करें तो हम पाएंगे की अक्सर आहार विशेषज़ यानिकी डाइटीशियन कहते हैं कि कोई भी आहार अच्छी सेहत, ताकत और स्फूर्ति तभी देता हैं, जब उसे सही तरीके से और सही समय पर लिया जाए। इसलिए आज का लेख हमारा Right Rule for Healthy diet in Hindi पर है  तो आज हम अपने इस पोस्ट के माध्यम से खानपान के सही तरीके के बारे में जानने की कोशिश करेंगे | सेहत अच्छी रहे इसलिए खाने में पौष्टिक चीजों को शामिल करना बेहद जरुरी है | लेकिन हर कोई व्यक्ति यह नहीं जानता होगा की उसके शरीर की प्रकृत्ति के मुताबिक उसके लिए सही आहार कौन सा है | साथ ही भारतवर्ष में ऐसे लोग भी देखे जा सकते हैं जो पौष्टिक आहार से होने वाले फायदों के बारे में तो जानते हैं लेकिन सही समय पर सही कॉम्बिनेशन के साथ आहार लेना वे भी जरुरी नहीं समझते कहने का आशय यह है की कोई भी खान पान शरीर के लिए तभी अच्छा होता है जब उसे सही तरीके से लिया गया हो |

खान-पान-के-सही-तरीके-

  1. पानी पीने का तरीका:

खानपान के सही तरीके में सबसे पहले जिक्र आता है पानी का, जैसा की हम सबको विदित है की पानी शरीर को सेहतमंद एवं स्वस्थ रखने के लिए बेहद जरुरी है लेकिन यदि किसी से हम पूछे हैं की पानी पीने का सही तरीका क्या है तो इसका जवाब शायद बहुत ही कम लोग दे पाएंगे | पानी सुबह उठाने के बाद एक्सरसाइज करने से कुछ देर पहले और एक्सरसाइज करने के कुछ देर बाद पीना चाहिए | खाना खाने के एकदम बाद पानी पीना या खाना खाते खाते पानी पीना एकदम गलत है | इससे पेट में उपस्थित अंग जठर में  जठराग्नि प्रदीप्त होती है | यहाँ पर जठर से आशय अमाशय से है जहाँ भोजन की पाचन क्रिया हो रही होती है  खाना खाने के 90 मिनट यानि डेढ़ घंटे बाद तक पानी न पीने से जठराग्नि अपना कार्य बेहद अच्छी तरह से करती है और भोजन अच्छी तरह से पचता है | खाया हुआ भोजन सबसे पहले पेस्ट के रूप में परिवर्तित होता है उसके बाद पाचन क्रिया शुरू होती है और इसी दौरान खाने में रस बनने की प्रक्रिया शुरू होती है | जब खाने से रस निकलने लगता है उस वक्त हमारे शरीर को पानी पीने की आवश्यकता होती है क्योंकि बिना पानी के रस नहीं बन सकता | इसलिए पानी पीने के सही तरीके की यदि हम बात करें तो वह यह है की खाना खाने के डेढ़ घंटे बाद घूंट घूंट पानी पीया  जा सकता है |

  1. फल खाने का सही तरीका:

खान पान के सही तरीके में दूसरा जिक्र फलों का आता है, जो लोग अपने हेल्थ के प्रति जागरूक हैं वे हर रोज फल खाना बेहतर समझते हैं क्योंकि विभिन्न फलों को विटामिन्स, एंटी ओक्सिडेंट, फाइटो केमिकल, का भण्डार माना जाता है | वे महिलाएं या पुरुष जो हमेशा मौसमी फलों को खाते हैं इसका असर उनके चेहरे पर साफ़ देखा जा सकता है | क्योंकि यह उनके मेटाब्लीज्म को सक्रीय रखता है जिन लोगों को यह शिकायत रहती है की वे हमेशा यानिकी प्रतिदिन कुछ न कुछ फल अवश्य खाते हैं लेकिन शरीर पर इसका कोई अनुकूल असर नहीं दीखता इसका स्पष्ट तौर पर मतलब है की उनका फल खाने का तरीका सही नहीं है | रात को फल खाने से बचना चाहिए रात को फल खाने से शरीर को इनका फायदा कम पहुँचता है और नुकसान की आशंका बनी रहती है इसलिए फलों को दिन में खाना ही फल खाने का सही तरीका है | जो व्यक्ति या महिलाएं सुबह की एक्सरसाइज करती हों वे एक्सरसाइज के बाद फलों का सेवन कर सकते हैं कहने का आशय यह है की शाम को पांच बजे के बाद पहलों का सेवन नहीं करना चाहिए |

  1. घी खाने का सही तरीका:

खान पान के सही तरीके में तीसरा नंबर घी का है, घी में कैल्सियम, फास्फोरस, मिनरल्स, पोटेशियम जैसे पोषक तत्व होते हैं यह पाचन को आसान बनाता है। दूध में धी का इस्तेमाल मानसिक व शारीरिक कमजोरी को दूर करने के साथ जोड़ों के दर्द में भी फायदेमंद होता है। हालांकि फैट की वजह से इसका सेवन हम कम ही करते हैं। फिर भी अगर आप रोजाना घी लेती हैं, तो इसे फ्राई करने की बजाय दाल में डालकर या रोटी व परांठे में ऊपर से लगाकर खाएं। तभी इसका फायदा मिलेगा। इसी तरह मक्खन को तेज आंच पर गर्म करके खाना हानिकारक हो सकता है।

  1. चाय के साथ क्या खाना चाहिए:

खान पान के सही तरीके में चौथा नंबर चाय का आता है, चाहे भूख लगी हो या किसी मेहमान का आगमन हो, चाय के साथ बिस्कुट सबसे पहले हाजिर होता है। चाय और बिस्कुट खाने की एक परंपरा-सी बन गई है। लेकिन क्या यह तरीका सही है? बिल्कुल भी नहीं? बाहर बने बिस्कुट में चीनी की अधिक मात्रा होती है। मैदा, आटा उच्च स्तर का नहीं होने से सेहत के लिए खतरनाक होते हैं। ऐसे में अगर बिस्कुट घर पर बने हों, तो इन्हें सिंके चिप्स आदि के साथ लिया जा सकता है, मगर चाय के साथ नहीं। इसी तरह दूध अपने आप में एक संपूर्ण पोषक तत्वों से भरा आहार है। दूध एकदम गर्म या एक दम ठंडा पीना अथवा अत्यधिक गाढ़ा व मलाईयुक्त पीना सेहत पर विपरित असर डालता है। सही तरीका यह है कि इसे गुनगुना पिएं। इसे नाश्ते में या रात को सोने से पहले पिएं।

  1. टोमेटो कैचप खाने का सही तरीका :

खान पान के सही तरीके में पांचवा नंबर टोमेटो केचप का है, शायद आप नहीं जानते होंगे की एक चम्मच टोमेटो कैचप किसी को भी 5 ग्राम शक्कर देता है | इस कैचप के माध्यम से किसी के भी शरीर में शक्कर की बड़ी मात्रा इकट्ठी होने लगती है। इडली के साथ इसको खाना नुकसानदेह होता है। कैचप घर में बनाया गया हो और इसमें ताजा मसालों का इस्तेमाल किया गया हो, तब इसे कम मात्रा में आहार में शामिल किया जा सकता है।

  1. अंकुरित नट्स खाने का सही तरीका:

खान पान के सही तरीके में छठा नंबर अंकुरित नट्स का है, आहार विशेषज्ञों के मुताबिक, रोजाना करीब 30 ग्राम नट्स का इस्तेमाल अच्छी सेहत के लिए जरूरी है। लेकिन प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर और ओमेगा-3, 6 से भरपूर नट्स का सेवन किसी भी समय या जरूरत से ज्यादा या कम करने पर इसका विशेष लाभ नहीं मिलता है। सही तरीका यह है कि इसे 4-6 घंटे पहले पानी में भिगो दें। इससे पोषक तत्वों के मूल्यों में वृद्धि होती है। फिर इसे सुबह खाली पेट खाएं। फल के साथ भी इसे खा सकती हैं। मिष्ठान्न आदि में इस्तेमाल करके भी इसके पोषक तत्वों को नष्ट कर देते हैं। अगर आप इसका लाभ लेना चाहती हैं, तो पानी में भिगोकर खाएं।

और अपने पाचन के नेना विशेष फायदेमंद होता हैं जैसे-खट्टे फलों के साथ दूध-चायन लें। इसमें कम-से-कम दो घंटे का अंतर रखें। लंच और डिनर सोने से कम-से-कम दो घंटे या अधिक का अंतराल रखना जरुरी हैं। वरना एसिडिटी, कब्ज जैसी दिक्कतें जन्म लेंगी।

  1. दूध पीने का सही तरीका:

खान पान के सही तरीके में सातवां नंबर दूध का है, यह अपने आप में एक संपूर्ण पोषक तत्वों से भरा आहार है। इसमें जरूरत के मुताबिक, अमीनो एसिड, मात्रा में होते हैं। एकदम गर्म या एक दम ठंडा अथवा अत्यधिक गाढ़ा व मलाईयुक्त दूध पीना सेहत के लिए ठीक नहीं है। पीने के लिए गुनगुने दूध का इस्तेमाल करें। इसे सुबह नाश्ते में लें या फिर रात को सोने से पहले। दूध की बजाय आप अन्य मिल्क प्रोडक्ट भी ले सकते हैं।

  1. खान पान का सही कॉम्बिनेशन

खान पान के सही तरीके ऐसे होने चाहिए जो एक बार के खाने में न सिर्फ आसानी से पच जाए अपितु आहार में लिया जाने वाला खान पान एक-दूसरे के मिजाज के उलट न हो जैसे बहुत गर्म और बहुत ठंडा नमकीन और मीठा, हल्का व भारी आहार एक साथ न लें। यह एक तरह का विरुद्ध आहार होता है जिसका बुरा प्रभाव पाचन पर पड़ता है।

यह भी पढ़ें:

वेगन डाइट क्या है और किस तरह मोटापा कम करती है |

कुछ गंभीर बीमारियों के शुरूआती लक्षणों की जानकारी |

लंच के बाद नियमित रूप से आधा घंटा घुमने के फायदे |

मानव शरीर के बारे में कुछ आश्चर्यजनक एवं रोचक जानकारी |  

  • चाय के साथ तला-जुना खाने की आदत पाचन पर बुरा प्रभाव डालती है। साथ ही खाने के तुरंत बाद भी चाय पीना हानिकारक है |
  • दूध के साथ किसी भी सूरत में दही या दही से बना कोई भी आहार लेने से बचें। इससे अपच और एसिडिटी की समस्या हो सकती है। डिनर के एक दम बाद दूध लेने से बचें। दूध के साथ खट्टे फलों को लेने से बचें।
  • घी, मक्खन, तेल के साथ पनीर, अंडा, मीट जैसे भारी प्रोटीनयुक्त आहार एक साथ न लें।

उपर्युक्त खान पान के सही तरीके अपनाकर कोई भी मनुष्य अपनी जिन्दगी स्वस्थ्य एवं हेल्थी बना सकता है |

About Author:

HBG Health desk is a team of Experienced professionals holding various skills. They are expert to do research online and offline on health, beauty, wellness, and other components of health in Hindi.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *