त्वचा के प्रकार जानने के तरीके एवं उनकी देखभाल

क्या आप जानते हैं? आपकी त्वचा किस प्रकार की है अर्थात क्या आप अपनी त्वचा के प्रकार के बारे में जानते हैं?, यदि नहीं तो आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से त्वचा के प्रकार के बारे में जानने की कोशिश कर रहे हैं ताकि आप लक्षणों के आधार पर अपनी त्वचा के प्रकार का पता लगाने में सक्षम हो सकें | सामान्य तौर पर त्वचा के प्रकारों को मुख्य रूप से चार भागों में विभाजित किया जा सकता है | प्राय देखा गया है की महिलाएं एवं लड़कियां अपने सौन्दर्य अर्थात ब्यूटी के लिए काफी जागरूक रहती हैं और अपने सौन्दर्य को बढ़ाने के लिए हमेशा नए नए सौन्दर्य प्रसाधनों का उपयोग करती रहती हैं | इसलिए यह जरुरी नहीं होता है की सभी प्रकार के सौन्दर्य प्रसाधन सभी महिलाओं या लड़कियों की त्वचा पर एक जैसा असर करें, क्योंकि सभी की त्वचा एक दुसरे से अलग अलग होती है, इसलिए यदि किसी को अपनी त्वचा के प्रकार की जानकारी हो जाय तो वह उन्हीं सौन्दर्य प्रसाधनों का इस्तेमाल करेंगे जो उनकी त्वचा के अनुरूप हो इससे उनकी खूबसूरती और अधिक बढ़ेगी |

त्वचा के प्रकार skin-types

  1. सामान्य त्वचा (Normal Skin)

Normal Skin यानिकी सामान्य त्वचा बहुत कम लोगों में देखने को मिलती है इस त्वचा की विशेषता यह है की यह त्वचा चमकदार, साफ, एवं आकर्षक होती है । कहने का आशय यह है की इस त्वचा के प्रकार में न तो तेल अधिक मिलता हैं और न ही रूखापन | हालांकि मौसम का थोडा थोडा असर इस त्वचा पर भी जरूर होता है लेकिन इस असर को फेस पैक इत्यादि लगाकर बेअसर अर्थात त्वचा की देखभाल की जा सकती है । इसके अलावा सामान्य त्वचा यदि सर्दियों में रूखी लगने लगे तो इसकी देखभाल के लिए ऐसे फेस पैक का उपयोग किया जा सकता है जो ख़ास तौर पर रुखी त्वचा के लिए होते हैं | ठीक इसी प्रकार गर्मियों में त्वचा के तैलीय हो जाने पर, तैलीय त्वचा वाले फेस पैक लगाए जा सकते हैं । जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं की त्वचा की उचित देखभाल के लिए सबसे पहले त्वचा की प्रकृति पहचानना जरूरी हो जाता है । इसलिए सामान्य त्वचा (Normal Skin) की पहचान के तरीके की यदि हम बात करें तो हम पाएंगे की इसे पता करने के लिए सम्बंधित व्यक्ति या महिला को  सुबह उठकर अपने चेहरे पर टिश्यू पेपर से दबाव डालना होगा, इसके बाद पेपर का निरीक्षण करना होगा की उसमे न तो अधिक तेल होना चाहिए और न ही खुश्की |

  1. तैलीय त्वचा (Oily Skin):

तैलीय त्वचा यानिकी Oily Skin से हमारा अभिप्राय एक ऐसी त्वचा से है जिसमे हमेशा तेल की परत नज़र आती है इसकी वजह से चेहरा ऐसे चमकता है जिसे चेहरे पर कोल्ड क्रीम लगा रखी हो | मांसपेशियों के अधिक तेल पैदा करने से त्वचा तैलीय होती है । इस त्वचा के प्रकार में झुर्रियां नहीं पड़ती और जिनकी ऐसी त्वचा होती है वे स्त्री एवं पुरुष जल्दी से बूढ़े भी नहीं लगते | तैलीय त्वचा की यदि उचित देखभाल न की जाय तो इसमें त्वचा के अनेकों बीमारियाँ जन्म ले सकती हैं इनमे मुख्य रूप से मुहांसे, खुले रोमछिद्र एवं झाइयाँ इत्यादि हो सकती हैं | तैलीय त्वचा वाले स्त्री पुरुषों को त्वचा से तेल कम करने के लिए चन्दन का पैक लगाने के साथ साथ दिन में पांच छह बार मुहँ धोना चाहिए ऐसी स्किन को छाछ से धोने पर निखार आता है | इस त्वचा पर मुहांसों की अधिकता एवं तिसुए पेपर का उपयोग चेहरे पर करने से उसमे बहुत ज्यादा चिकनाहट का पाया जाना, एवं हमेशा चमकती सी दिखना इस तैलीय त्वचा की पहचान है |

  1. मिश्रित त्वचा (Mixed Skin)

मिश्रित त्वचा जैसा की नाम से ही विदित हो रहा है की इस त्वचा के प्रकार में सभी त्वचाओं का मिश्रण समाहित होता है | मिश्रित त्वचा में मस्तक, नाक एवं ठोड़ी पर अंग्रेजी के ‘T’ अक्षर की आकृति वाला तेल होता है और गाल रूखे रूखे से होते हैं | इस त्वचा के प्रकार की देखभाल इसको दिन में दो तीन बार पानी से धोकर एवं गालों पर उच्च गुणवत्तायुक्त कोल्ड क्रीम लगाकर, त्वचा के अनुरूप फेस पैक लगाकर किया जा सकता है | इस प्रकार की त्वचा में टिश्यू पेपर दबाने से कहीं चिकनाहट महसूस होगी तो कहीं रूखापन तो कहीं दोनों संतुलित मात्रा में |

  1. रूखी त्वचा (Dry Skin):

रुखी त्वचा की यदि हम बात करें तो हम पाएंगे की इस त्वचा के प्रकार वाले स्त्री एवं पुरुष  मुंहासे, झाइयों व खुले रोम-छिद्रों से लगभग बचे रहते हैं । और इस तरह की स्किन पर मेकअप काफी देर तक ज्यों का त्यों रहता है, लेकिन त्वचा का यह प्रकार चमकहीन होता है अर्थात इसमें कोई चमक नहीं होती । और जहाँ तक इस त्वचा में झुर्रियों का सवाल है वे उम्र से पहले दस्तक दे देती हैं | इस प्रकार की त्वचा अर्थात रुखी त्वचा का ध्यान न रखने पर इसमें सफ़ेद चकते हो सकते हैं जिससे त्वचा बेहद खराब लगती है | इसलिए ध्यान रहे रुखी त्वचा वालों को  स्क्रबर के इस्तेमाल से हमेशा बचना चाहिए | रुखी त्वचा की देखभाल के लिए सोने से पहले रात को कोल्ड क्रीम से मालिश की जा सकती है । अंडे के पीले भाग में दो बूंद जैतून का तेल डालकर फेस पैक बनाया जा सकता है और इसका उपयोग हर हफ्ते एक बार किया जा सकता है | रुखी त्वचा में मॉइस्चराइजर का इस्तेमाल अधिक होना चाहिए । इस प्रकार की त्वचा वालों का चेहरा हमेशा खींचा खींचा सा महसूस होता है और जब टिश्यू पेपर से रूखी त्वचा को पोंछा जाता है तो पेपर में हमेशा रूखापन व लकीरें-सी दिखाई दे सकती हैं ।

त्वचा के प्रकार जानने के अन्य तरीके:

ऐसे लोग जो अपनी त्वचा के प्रकार को जानने के उत्सुक हैं वे चाहें तो उपरोक्त प्रयोगों के अलावा भी अपनी त्वचा के प्रकार को जानने के लिए नीचे लिखे तरीके इस्तेमाल में ला सकते हैं |

  • यह पहला तरीका आजमाने के लिए सुबह उठते ही आपको आईने के सामने खड़ा होना पड़ेगा और अपना सिर पीछे की ओर थोडा सा झुकाकर आईने में देखना होगा | यह आपको इसलिए करना होगा ताकि बालों के आगे की ओर आने से रोम छिद्रों को देखने में कोई व्यवधान उत्पन्न न हो | अब यदि आँखों के नीचले हिस्से से जबड़ों के किनारे तक यदि आपकी स्किन में लकीरें जैसी दिखाई देती हैं एवं त्वचा में कसावट भी दिखाई देती है, लेकिन रोम छिद्र नहीं दिखाई देते तो इसका अभिप्राय यह है की आपकी त्वचा रुखी यानिकी Dry Skin है |
  • त्वचा के प्रकार जानने का दूसरा तरीका यह है की आप शीशे के सामने यानिकी आईने के सामने खड़े होकर अपने होंठों को चुम्बन लेने जैसी अवस्था में करें, अर्थात जिस अवस्था में होंठ चुम्बन लेते वक्त होते हैं वैसे ही करें | अब यदि आपके मुहं के आस पास आपके गालों पर आड़ी- तिरछी लकीरें दिखाई दें और होंठों को सामान्य अवस्था में लाने पर गायब हो जाती हों तो इसका अभिप्राय यह है की आपकी त्वचा में पानी की अल्पता है मतलब यह की आपकी त्वचा नमी रहित है | लेकिन त्वचा में नमी की कमी का मतलब यह बिलकुल नहीं है की उसमे तेल की भी कमी हो | त्वचा में तेल की मात्रा जानने के लिए अपना चेहरा धोएं उसके बाद तीन मिनट तक इंतजार करें, उसके बाद चेहरे की त्वचा को आईने पर दबाएँ यदि आईने पर धब्बा दिकाही दे तो आपकी त्वचा में तेल की कमी नहीं है |
  • इनके अलावा रूखे गालों, मस्तक , नाक के बीच के भाग में क्रॉस की आकृति की लकीरें उभरने का मतलब होता है की त्वचा का प्रकार मिश्रित है |

त्वचा के प्रकार जानने के लिए उपर्युक्त तरीको को अपनाकर अपनी त्वचा की उचित देखभाल की जा सकती है, अपनी त्वचा के प्रकार को जानकर एवं उसी के अनुकूल मेकअप एवं देखभाल करके अपनी खूबसूरती को तो बढाया जा ही सकता है साथ में अपना आत्मविश्वाश बढ़ा कर दुनिया में अपनी कुशलता एवं काबिलियत का लोहा भी मनवाया जा सकता है |

About Author:

Post Graduate from Delhi University, certified Dietitian & Nutritionists. She also hold a diploma in Naturopathy.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *