नारियल के फायदे एवं औषधीय गुण Medicinal Benefits of Coconut .

नारियल के फायदे क्या क्या हैं शायद इस बात से हर व्यक्ति वाकिफ नहीं होगा इसलिए आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से नारियल के औषधीय गुणों के बारे में तो जानेंगे ही जानेंगे | इसके अलावा कुछ अतिरिक्त जानकरी भी हम नारियल एवं उसके पेड़ के बारे में जानने की कोशिश करेंगे | नारियल का पेड़ उष्ण कटिबंधीय जलवायु यानिकी गर्मीं में उगने वाला पेड़ है | नारियल के पेड़ हिन्द महासागर एवं प्रशान्त महासागर के किनारे वाले क्षेत्रों में पाए जाते हैं | नारियल का लेटिन नाम–कोकोस न्यूसीफेरा (Cocos nucifera) है नारियल दो तरह की किस्मों में पाया जाता है इसमें पहला प्रकार मोहानी नारियल और दूसरा सादा नारियल है | वर्तमान में नारियल का उत्पादन समुद्री जलवायु एवं दक्षिणी राज्यों में किया जाता है | नारियल-वृक्ष सागर-तट पर होते हैं । 7-8 वर्ष बाद इसमें फल लगते हैं । इनकी अलग अलग विशेषता होती है इन सबके बारे में हम एक अलग से पोस्ट के माध्यम से बात करेंगे आज का हमारा विषय नारियल के फायदे एवं औषधीय गुणों से जुड़ा हुआ है | इसलिए आज हम इसके औषधीय गुणों (Medicinal Benefits) के बारे में बात करेंगे |

नारियल के फायदे

नारियल के फायदे औषधीय गुण:

नारियल को शरीर से जुड़े हुए अनेकों विकारों में उपयोग में लाया जा सकता है तो आइये जानते हैं नारियल के औषधीय गुणों के बारे में |

कृमिनाशक के तौर पर नारियल के फायदे:

  • नारियल का पानी पीकर, अर्थात कच्चा नारियल से पेट के कृमि निकल जाते हैं । नारियल का पानी पीने से पाचन क्रिया ठीक होती है । नारियल का तेल एक चम्मच नित्य रात को सोते समय पिलाते रहने पर बच्चों के पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं । पेट में कृमि हों, उल्टियाँ होती हों तो नारियल के फायदे लेने के लिए पानी में नीबू निचोड़कर पिलाया जा सकता है । ध्यान रहे बच्चे के पेट में कृमि हो और उल्टी होती हो तब उसे नारियल के पानी में नीबू का रस मिलाकर पिलाना चाहिये ।

         फरास :

  • एक चम्मच सुहागा तवे पर गर्म करके फुलाकर, पीसकर दो चम्मच नारियल का तेल और दो चम्मच दही मिलाकर मिश्रण तैयार कर   लें उसके बाद इस मिश्रण को बालों की जड़ों में लगायें, मालिश करें । आधे घंटे बाद सिर धोयें । फरास दूर हो जायेगी ।
  • बाल गिरने में नारियल के फायदे:

  • नारियल का तेल सिर में लगाने से बाल गिरना बन्द होकर बाल लम्बे होना शुरू हो जाते हैं |

खुजली:

  • खुजली में नारियल के फायदे लेने के लिए 50 ग्राम नारियल के तेल में दो नीबू का रस मिलाकर मालिश करने से खुजली कम होती है । साथ में सूखा नारियल खायें ।

सिरदर्द :

  • नारियल की 25 ग्राम सूखी गिरी और इतनी ही मिश्री सूर्य उगने से पहले खाने से सिरदर्द बन्द हो जाता है ।
नकसीर:
  • नकसीर में नारियल के फायदे लेने के लिए प्रात: भूखे पेट 25 ग्राम नारियल खाने से नकसीर आना बन्द होता है । यह सात दिन तक खायें ।
आँखों के सामान्य रोग :
  • नारियल की 25 ग्राम सूखी गिरी और 60 ग्राम शक्कर प्रतिदिन एक सप्ताह खाने से आँखों के सामान्य रोग में लाभ होता है । यदि आँख दुखने का रोग हो तो नमक नहीं खाना चाहिए या कम खाना चाहिए | घी, बूरा या शक्कर, कालीमिर्च से रोटी खायें । नारियल का सेवन नेत्र-ज्योति भी बढ़ाता है ।
  • पान खाने से जीभ फटने की स्थिति में भी नारियल के फायदे लिए जा सकते हैं इसके लिए सूखे नारियल की गिरी और मिश्री मिलाकर चबाने से लाभ होता है ।
  • नारियल का पानी दिन में एक दो बार पीने से अम्लपित्त की समस्या दूर हो जाती है |
पानी की कमी (De-hydration):
  • उल्टी, दस्त, तेज ज्वर किसी भी कारण से शरीर में जल की कमी हो जाए तो कच्चे नारियल के पानी में स्वादानुसार नीबू निचोड़कर घूँट- घूँट पानी बार-बार पिलाते रहने से शरीर में पानी की कमी नहीं होती है । रोगी को लाभ होता है । जिस प्रकार बड़े लोग पूरे नारियल का पानी पी लेते हैं, वैसे बच्चों को नहीं देना चाहिये । शिशुओं के लिये एक-एक चम्मच बार-बार देना पर्याप्त है ।
  • नारियल के फायदे में यह फायदा नारियल के पानी से जुड़ा हुआ है माता को दूध कम आता हो तो दूध में नारियल का पानी मिलाकर शिशुओं को पिला सकते हैं । जिन शिशुओं को दूध नहीं पचता, वे नारियल के पानी को दूध में मिलाकर पिलाने से दूध को पचा लेते हैं । टाइफाइड, कोलाइटिस, चेचक, पेचिश, अतिसार या डिप्थीरिया आदि में नारियल का पानी अधिक लाभदायक होता है ।
  • शरीर में दाह, गर्मी को दूर करने में मददगार साबित होता है नारियल | नारियल शरीर में ठण्डक लाता है । प्रात: भूखे पेट नारियल के पानी में नीबू का रस मिलाकर पीने से शरीर की सारी गर्मी मूत्र एवं मल के साथ निकल जाती है और रक्त शुद्ध होता है ।
  • नारियल के फायदे में यह फायदा ब्यूटी टिप्स से जुड़ा हुआ है चेहरे पर नारियल का पानी नित्य दो बार लगाते रहने से चेहरे के कील, मुँहासे, दाग, धब्बे, चेचक के निशान आदि दूर हो जाते हैं ।
  • छोटे बच्चों को शक्कर या गुड़ के साथ खोपरा खिलाने से उनका दुबला पतला शरीर हृष्ट-पुष्ट और मोटा हो जाता है ।
  • कहा यह जाता है की नित्य एक नारियल का पानी गर्भावस्था में पीते रहने से सुन्दर सन्तान का जन्म होता है ।
  • नारियल के फायदे में यह फायदा गर्भावस्था से जुड़ा हुआ है | मक्खन में पिसी हुई मिश्री समान मात्रा में मिलाकर दो चम्मच इच्छानुसार चाट ले । फिर चौथाई गोला कच्चा नारियल व मिश्री को खूब चबा-चबाकर 5 माह तक खायें । इसके बाद दो चम्मच सौंफ खायें। यह पूरे गर्भकाल में खाती रहें । इससे माँ और शिशु दोनों हष्ट-पुष्ट होंगे । शिशु गोरे रंग का होगा चाहे माता-पिता काले ही क्यों न हों । गर्भवती महिलाओं को नारियल खिलाने से जन्म लेने वाले बच्चे की आँखें सुन्दर होती हैं व नेत्र-ज्योति बढ़ती है ।
  • सूखा नारियल खाने से दस्तों में लाभ होता है ।
  • नारियल की गिरी शीतल, देर से पचनेवाली, पौष्टिक, दाहनाशक तथा रक्त-विकार को दूर करनेवाली है ।
  • जिसे पित्त का प्रकोप यानि गर्मी का असर हो गया हो, उसे कच्ची नारियल-गिरी खिलानी चाहिए ।
  • पुराना (सूखा) नारियल-फल भारी है, उष्णवीर्य (पित्तकारक) तथा भारी (देर से पचनेवाला) है । खीर, हलुआ, बर्फी, केक आदि में ‘खोपा’ कुतरकर डाला जाता है । यह शरीर की शक्ति बढ़ाता है ।
  • नारियल के अन्दर का पानी प्यास मिटाता है, हल्का होता है यानि तुरन्त पच जाता है, भूख बढ़ाता है, वीर्यवर्धक है, पित्त (गर्मी) दूर करता है ।
  • नारियल का तेल सिर पर लगाने से बाल लम्बे, घने तथा चिकने होते हैं । नारियल का तेल खाना पकाने में घी की तरह प्रयुक्त होता है ।
  • नारियल के फायदे में यह फायदा बुखार में लिया जा सकता है | बुखार के कारण लगने वाली प्यास का ईलाज करने के लिए नारियल की जटा (फल के ऊपर के बालों को) जला लें । इसे गर्म पानी में डालकर रख दें । जब शीतल हो जाए, तो छानकर दें । ज्वर में बहुत अधिक तथा बार-बार प्यास लगने पर इसे देने से प्यास मिटती है ।

यह भी पढ़ें:

अमरुद में पाए जाने वाले औषधीय गुण एवं फायदे

संतरे में पाए जाने वाले औषधीय गुण एवं फायदे

नींबू में पाए जाने वाले औषधीय गुण एवं इसके फायदे   

About Author:

Post Graduate from Delhi University, certified Dietitian & Nutritionists. She also hold a diploma in Naturopathy.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *