Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
फल्लोपोस्कोपी

फल्लोपोस्कोपी जांच क्या है इसके लाभ एवं अन्य जानकारीयाँ.

फल्लोपोस्कोपी क्या है ? :

कई स्त्रियों में डिम्बवाहिनियों (fallopian tubes) के कारण इनफर्टिलिटी होती है । फल्लोपोस्कोपी एक ऐसी जांच है, जिसके द्वारा fallopian tube की आंतरिक जांच व उपचार संभव है । इसके द्वारा एक छोटा व लचीला catheter सर्विक्स व गर्भाशय के रास्ते से डिम्बवाहिनी अर्थात् fallopian tube में डाला जाता है  । 0.5 m.m. का एक flexible fiber optic endoscope उपर्युक्त catheter के द्वारा fallopian tube में डाला जाता है । फैलोस्कोप के सिरे पर लगे हुए कैमरे के जरिये fallopian tubes के अंदर की स्थिति को टी. वी. मॉनिटर पर आसानी से देखा जा सकता है ।

फल्लोपोस्कोपी

फल्लोपोस्कोपी के क्या लाभ हैं ? :

इसके द्वारा fallopian tubes की असामान्यताओं जैसे अवरोध, घाव व आंतरिक लाइनिंग की क्षति को देखा जा सकता है । जैसे ही असामान्यताओं का पता चलता है, डॉक्टर इन्हें उसी समय ठीक भी कर सकते हैं। यदि fallopian tubes की क्षति इतनी अधिक है कि उन्हें सर्जरी द्वारा भी ठीक नहीं किया जा सकता है, तो डॉक्टर आई. वी. एफ. की सलाह देते हैं ।

फल्लोपोस्कोपी में कितना समय लगता है ? :

फल्लोपोस्कोपी में 30 से 45 मिनट तक का समय लगता है । यदि इसके साथ tubal reconstructive surgery भी की जा सकती है, तो ऑपरेशन में डेढ़ से दो घंटे का समय लग सकता है ।

फल्लोपोस्कोपी में किस प्रकार का एनेस्थीसिया प्रयुक्त होता है ? :

फल्लोपोस्कोपी लोकल एनेस्थीसिया के साथ अथवा intravenous sedation के साथ भी की जा सकती है, परन्तु यदि साथ में सर्जरी भी की जाती है, तब जनरल एनेस्थीसिया का प्रयोग किया जाता है ।

क्या फल्लोपोस्कोपी गर्भधारण की संभावना को बढ़ाती है ? :

फल्लोपोस्कोपी डाइग्नोसिस के लिये प्रयुक्त होने वाली प्रक्रिया है । यद्यपि इसके द्वारा कुछ अवरोधों का प्रभावशाली ढंग से उपचार किया जा सकता है । Fallopian tube की असामान्यताओं के निदान के साथ-साथ यह उपचार की भी प्रक्रिया है जिसमें balloon tuboplasty भी शामिल है । Laparoscopy अथवा laparotomy के द्वारा माइक्रोसर्जरी से भी उपचार किया जा सकता है । अत: यह fallopian tube की असामान्यताओं के निदान व उपचार के द्वारा गर्भधारण की संभावनाओं को निश्चित रूप से बढ़ाती है ।

फल्लोपोस्कोपी के बाद सामान्य दिनचर्या कब प्रारंभ की जा सकती है ? :

फल्लोपोस्कोपी के अगले दिन से ही आप अपनी दिनचर्या प्रारंभ कर सकती हैं । यदि फैलोस्कोपी के साथ reconstructive tubal surgery भी की जाती है, तो रिकवरी में अधिक समय लग सकता है । यह इस पर निर्भर करता है कि ऑपरेशन किस प्रकार का है ।

फल्लोपोस्कोपी से क्या खतरा हो सकता है ? :

सामान्यत: इन्फेक्शन व रक्तस्राव का खतरा होता है । Fallopian tube में छेद हो सकता है, इसकी संभावना बहुत कम होती है व यह कोई हानि नहीं पहुंचाता है । बहुत ही असाधारण केस में यदि छेद के स्थान से रक्तस्राव होता है, तो उसके उपचार के लिये लैप्रोस्कोपी अथवा दूरबीन द्वारा उपचार की आवश्यकता होती है ।

अन्य पढ़ें:

एंडोमटेरियल बायोप्सी क्या है कब और कैसे की जाती है?

डायग्नोस्टिक हिस्ट्रोस्कोपी क्या है कैसे की जाती है?

No Comment Yet

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *