रोने के फायदे रोना भी दिला सकता है स्वास्थ्य लाभ

रोने के फायदे पर बात करना इसलिए जरुरी हो जाता है क्योंकि हमारे समाज में एक ग़लतफ़हमी व्यापत है की रोना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है | कहने का अभिप्राय यह है की हमारी परंपराओं ने महिलाओं को तो खुलकर रोने की आजादी दे रखी है । क्योंकि अक्सर जब कोई लड़का रोने लगता है तो उसे यही कहा जाता है की क्या तू कोई लड़की है जो रो रहा है | कहने का आशय यह है की बचपन से ही लड़कों को यह समझाया जाता है कि रोना बुजदिली है, इसलिए उन्हें कभी रोना नहीं चाहिए । अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रखना चाहिए । यही कारण है कि बड़े होने पर पुरुष अपने रोने की स्वाभाविक प्रक्रिया को दबाकर रखने के आदी हो जाते हैं । इसलिए वे बड़े होकर भी रोने के फायदे से विमुख रहते हैं और आंसू-रोकने से होने वाले नुकसान से ग्रसित रहते हैं | इसलिए इससे पहले की हम रोने के फायदे के बारे में जानें सबसे पहले आंसू को अन्दर दबाने अर्थात रोकने से होने वाले नुकसान के बारे में बात कर लेते हैं जिनकी लिस्ट निम्नवत है |

रोने के फायदे

आंसू रोकने से होने वाले नुकसान:

  • आंसू रोकने से होने वाले कुछ मुख्य नुकसान की लिस्ट निम्नवत है |
  • माना जाता है की जो व्यक्ति होश संभालने के बाद कभी नहीं रोते, वे सांस की तकलीफ, दमा या फिर बदन पर फोड़े-फुसी का शिकार हो जाते हैं ।
  • ऐसे लोगों को उच्च रक्तचाप, भगंदर जैसी बीमारियां होने की पूर्ण आशंका होती है ।
  • जो व्यक्ति मानसिक आघातों को चुपचाप सहन कर लेते हैं, वे पागल भी हो सकते हैं ।
  • कभी-कभी आंसू रोक लेने से अनेक बीमारियां जैसे नजला, जुकाम, आंख के रोग, हृदय में पीड़ा, सिर दर्द, चक्कर आना, गरदन का अकड़ना, भोजन करने की इच्छा न होना इत्यादि भी हो सकती हैं ।

कभी कभी रोने के फायदे:

चिकित्सा विशेषज्ञों के मतानुसार कभी-कभार रोना स्वास्थ्य की दृष्टि से लाभदायक होता है । अर्थात स्वास्थ्य की द्रष्टी से कभी कभी रोने के फायदे होते हैं और इससे किसी भी प्रकार की हानि नहीं होती, रोने के फायदे की लिस्ट इस प्रकार से है |

  • कभी कभी रोने से आंसुओं के साथ तनाव के रासायनिक तत्व शरीर से निकल जाते हैं, जिससे मन हलका महसूस होता है ।
  • रोने से आंसू दुख, चिंता, क्लेश तथा मानसिक आघातों से पीछा छुड़ाने तथा मन को हलका कर आकस्मिक मनोव्यथाओं को सहने में सहायता मिलती है ।
  • रोने के फायदे में अगला फायदा यह है कि रोने से आंसुओं के साथ मस्तिष्क में एंड्रॉफिंस नामक हार्मोन स्रावित होता है, जिससे अच्छा महसूस होता है ।
  • डॉक्टरों का कहना है कि जी भर कर रो लेने से मानसिक तनाव से तो मुक्ति मिलती ही है, साथ ही हाई ब्लड प्रेशर, भगंदर, अल्सर, बड़ी आंत की सूजन, हृदय रोग आदि में भी राहत मिलती है ।
  • अमेरिका के बायोकेमिस्ट विलियम एच. फ्रेन ने एक सर्वेक्षण में ज्ञात किया है कि महिलाएं पुरुषों की तुलना में पांच गुना अधिक रोती हैं । बच्चों की तरह कहीं भी और कभी भी रो लेने के कारण स्त्रियां कम तनावग्रस्त, ज्यादा सहनशील, ज्यादा स्वस्थ और ज्यादा दिनों तक जीवित रहने वाली होती हैं ।

रोने के फायदे आँखों की खूबसूरती बढ़ाते हैं आंसू:

अमेरिका के वैज्ञानिकों ने यह बात सिद्ध कर दी है कि रोने से आंखों की खूबसूरती बढ़ती है । यही कारण है कि महिलाओं की आंखें पुरुषों से अधिक आकर्षक होती हैं । आंखों के कॉर्निया की परत कंजक्टाइवा को लेक्रीमल ग्रंथि द्वारा आंसुओं से नम कर देने के कारण, आंसुओं में मिले क्षारीय तत्वों द्वारा सुंदरता निखर जाती है । आंसुओं के निकलने पर हारडेरियन ग्रंथि से एक तैलीय द्रव निकलता है, जिसकी मदद से कॉर्निया नम और गहरा बन जाता है । इससे आंखें सुंदर और स्वस्थ रहती हैं । वैज्ञानिक एलक्जेंडर फ्लेमिंग ने आंसूओं को एक कीटाणुनाशक बताया है और उनका कहना है की कभी कभी रोने के फायदे होते हैं इसलिए आदमी को अपने आंसूं रोकने की बजे कभी-कभार रोकर आंसू बहा लेने चाहिए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *