Blood Cancer – रक्त कैंसर के प्रकार लक्षण जाँच एवं ईलाज.

Blood Cancer को रक्त का कैंसर भी कह सकते हैं वैसे देखा जाय तो ब्लड कैंसर नामक यह शब्द किसी एक प्रकार के कैंसर को इंगित नहीं करता है बल्कि इसे हम रक्त में पाए जाने वाले कैंसर की छतरी भी कह सकते है | वह इसलिए की जब हम ब्लड कैंसर की बात करते हैं या उच्चारण करते हैं तो यह तो स्पष्ट हो पाता है की रक्त कैंसर की बात हो रही है लेकिन किस प्रकार के Blood Cancer की बात हो रही है यह स्पष्ट नहीं हो पाता | इसलिए जरुरी हो जाता है की रक्त कैंसर के प्रकार पर भी एक नज़र डाली जाय |

Blood Cancer information-in-hindi

रक्त कैंसर के प्रकार (Types of Blood Cancer):

सामन्यतया यदि हम अध्यन करेंगे तो हम पायंगे की Blood Cancer को मुख्य रूप से तीन प्रमुख समूहों में विभाजित किया जा सकता है |

  1. ल्यूकेमिया

इस प्रकार का यह ब्लड कैंसर अर्थात leukemia खून में उपस्थित सफ़ेद रक्त कोशिकाओं को प्रभावित करता है | ये कोशिकाएं कुदरत द्वारा अस्थिमज्जा में बनाई गई मानव प्रतिरक्षा प्रणाली का एक महत्वपूर्ण संक्रमण प्रतिरोधी अंग है |  ल्यूकेमिया से ग्रसित व्यक्ति में सफ़ेद रक्त कोशिकाओं का असमान्य रूप से संचार होता है | और ये असमान्य कोशिकाएं स्वस्थ्य कोशिकाओं को नष्ट कर सकती हैं या उनके काम करने की प्रक्रिया में बाधा उत्पन्न कर सकती हैं | कहने का आशय यह है की असमान्य कोशिकाएं स्वस्थ्य कोशिकाओं को रोकती हैं जो मनुष्य के स्वास्थ्य एवं प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए जरुरी होता है | जहाँ Acute Leukemia बड़ी तीव्र गति से आता एवं विकसित होता है वहीँ Chronic leukaemia  धीरे धीरे आता भी है और धीरे धीरे ही विकसित भी होता है | Acute Leukemia में Chronic leukaemia की तुलना में बहुत जल्दी इलाज की आवश्यकता होती है  ल्यूकेमिया के प्रकारों की यदि हम बात करें तो यह भी मुख्य रूप से चार प्रकार का होता है |

  • Acute lymphoblastic leukaemia (ALL): यद्यपि इस प्रकार यह कैंसर किसी को भी अधेड़ एवं बूढ़े लोगों को हो सकता है लेकिन यह बच्चों को अधिकतर अपना शिकार बनाता है |
  • Acute myeloid leukaemia (AML).इस प्रकार का यह कैंसर बूढ़े लोगों को अधिक होता है |
  • Chronic lymphocytic leukaemia (CLL).यह कैंसर सर्वाधिक तौर पर 60 की उम्र पार कर चुके लोगों में देखा जाता है हालंकि बहुत कम संख्या में 40 से नीचे उम्र वाले लोगों में भी इसे देखा गया है |
  • Chronic myeloid leukaemia (CML). इस प्रकार का कैंसर आम नहीं है और दुर्लभ स्थितियों में देखने को मिलता है |

इन चार प्रमुख प्रकारों के अलावा  leukemia के और भी प्रकार होते हैं जिनकी लिस्ट निम्नवत है |

  • acute promyelocytic leukaemia (APL)
  • hairy cell leukaemia (HCL)
  • large granular lymphocytic leukaemia (LGL)
  • t-cell acute lymphoblastic leukaemia (T-ALL)
  • chronic myelomonocytic leukaemia (CMML)
  1. Lymphoma :

Blood Cancer का यह प्रकार मनुष्य की लसिका प्रणाली जो की मानव प्रतिरक्षा प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है को प्रभावित करता है | लसिका प्रणाली का काम मनुष्य के शरीर को इन्फेक्शन एवं रोगों से बचने का है | lymphoma नामक इस ब्लड कैंसर से पीड़ित व्यक्ति में कई लिम्फोसाइट्स का निर्माण होता है जो सफ़ेद रुधिर कणिकाओं जैसे ही होते हैं ये  लिम्फोसाइट्स जरुरत से अधिक समय तक जिन्दा रहते हैं | यह प्रक्रिया व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है | इस प्रकार का यह ब्लड कैंसर लिंफोमा शरीर के विभिन्न अंगों जैसे लसिका ग्रंथि, अस्थि मज्जा, तिल्ली, रक्त इत्यादि में विकसित हो सकता है | यह मुख्य रूप से दो प्रकार का होता है जैसे:-

  • Non-Hodgkin lymphoma (NHL):

अधिकतर लिंफोमा NHL ही होते हैं इसलिए इन्हें आम कैंसर कहा जा सकता है | यद्यपि यह वृद्ध लोगों में अधिक होता है |

  • Hodgkin lymphoma :

यह आम नहीं है और किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकता है | लेकिन नौजवानों में इस तरह का कैंसर अधिक देखने को मिलते है |

  1. Myeloma:

Myeloma को multiple myeloma भी कहा जाता है Blood Cancer का यह प्रकार प्लाज्मा कोशिकाओं से जुड़ा हुआ है , प्लाज्मा कोशिकाएं मनुष्य के अस्थि मज्जा में पायी जाती हैं | जो इन्फेक्शन से लड़ने के लिए Antibodies का निर्माण करने में सहायक होते हैं | Myeloma होने पर अनावश्यक प्लाज्मा कोशिकाएं अनियंत्रित होकर असमान्य रूप से बढ़ने लगती हैं जिससे मनुष्य का प्रतिरक्षा प्रणाली दुष्प्रभावित होती है |

रक्त कैंसर के लक्षण (Symptoms of Blood Cancer In Hindi):

यद्यपि Blood Cancer के बहुत सारे लक्षण यानिकी Symptoms हो सकते हैं यहाँ पर हम सामान्य लक्षणों की बात कर रहे हैं जो हर प्रकार के ब्लड कैंसर में दिखाई दे सकते हैं | कुछ खास लक्षण भी होते हैं जो ब्लड कैंसर के प्रकार के आधार पर अंतरित हो सकते हैं | उदाहरणार्थ: जैसे Lymphoma होने पर लसिका ग्रंथि में सूजन देखि जा सकती है |

  • अस्पष्टीकृत वजन घटना |
  • बिना किसी वजह के थकान
  • कमजोर या बेदम लगना |
  • आसानी से खरोंच या खून बह रहा हो जो बंद ही न हो रहा हो |
  • बढ़े लिम्फ नोड्स |
  • पेट में सूजन या पेट में परेशानी |
  • बार-बार और दोहराए जाने वाले संक्रमण |
  • बुखार / रात पसीना |
  • हड्डियों / जोड़ों में दर्द
  • त्वचा में खुजली
  • (पसलियों / पीठ) या हड्डी का दर्द

संभावित जांच एवं ईलाज (Possible tests and treatment for blood Cancer):

चिकित्सक द्वारा लक्षणों के आधार पर व्यक्ति की जांच की जा सकती है जैसे:

  • रक्त में सफ़ेद कणिकाओं, लाल कणिकाओं, प्लेटलेट्स इत्यादि की मात्रा का निरीक्षण करने के लिए Complete Blood Count test (CBC) करने को कहा जा सकता है |
  • अस्थिमज्जा की Biopsy यह जानने के लिए किया जा सकता है की व्यक्ति को कौन से प्रकार का Blood Cancer प्रभावित कर रहा है |
  • यदि व्यक्ति के लिम्फ नोड बढे हुए हैं तो उसकी भी Biopsy की जा सकती है |
  • मेरुदंड एवं दिमाग के द्रव में कैंसर कोशिकाओं का पता करने के लिए चिकित्सक द्वारा lumbar puncture नामक जांच भी करायी जा सकती है | इस प्रक्रिया को करने में व्यक्ति के पिछले हिस्से मेरु दंड में एक सुई चुभाई जाती है जिसका लक्ष्य मेरुदंड से द्रव लेना होता है फिर इस Fluid की Microscope के माध्यम से जांच की जाती है |

इन सब संभावित जांचों के बाद यदि व्यक्ति में Blood Cancer की पुष्टि होने के साथ साथ उसके प्रकार, स्टेज इत्यादि का पता लग जाता है तो चिकित्सकों अर्थात विशेषज्ञों की एक पूरी टीम द्वारा Blood cancer का Treatment शुरू किया जा सकता है |

About Author:

HBG Health desk is a team of Experienced professionals holding various skills. They are expert to do research online and offline on health, beauty, wellness, and other components of health in Hindi.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *