Breast Cancer Treatment and Symptoms

Breast Cancer यानिकी स्तन कैंसर महिलाओं से जुड़ा हुआ एक बेहद खतरनाक रोग है | भारत वर्ष में यदि हम Breast Cancer की बात करें तो एक आंकड़े के मुताबिक वर्ष 2015 में स्तन कैंसर से जुड़े हुए 155000 नए मामले सामने आने के आसार लगाये जा रहे थे जिसमे से इस खतरनाक बीमारी से मरने वाली महिलाओं की संख्या 76000 आंकी गई थी जो लगभग कुल प्रभावित महिलाओं की संख्या का 49% था | Breast Cancer नामक यह बीमारी भारतवर्ष की महिलाओं में ही नहीं अपितु विश्व के अन्य देशों की महिलाओं में भी बढती जा रही है | हालांकि इसे रोकने का कोई ख़ास तकनीक है नहीं लेकिन यदि Breast Cancer का शुरूआती दिनों में ही पता लग जाता है तो इसे पूर्ण रूप से ठीक किया जा सकता है |

Breast Cancer Kya Hai:

जैसा की हम पहले भी कैंसर का इतिहास कारण एवं स्टेज वाली पोस्ट में बता चुके हैं की कैंसर वाली कोशिकाएं असामान्य कोशिकाएं होती हैं। इसके अलावा Cancer Cells सामान्य Cells के मुकाबले अधिक तेजी से बढती एवं विभाजित होती हैं | यही कारण है की Cancer Cells की असमान्य प्रगति के कारण शरीर के किसी भाग में वृद्धि भी हो सकती है जिससे शरीर के उस स्थान विशेष में गाँठ का एहसास होता है और उसे सामान्य शब्दों में ट्यूमर कहा जाता है | Cancer Cells खून एवं लसिका तंत्र के माध्यम से शरीर के अन्य हिस्सों में भी फैल सकते हैं इस फैलने की प्रक्रिया को मेटास्टेटीस कहा जाता है | Breast में Cancer होना हो Breast Cancer या स्तन कैंसर कहलाता है |

Breast Cancer Symptoms or Sign in Hindi:

Breast-Cancer-Symptoms

 

यद्यपि स्तनों में निम्नलिखित लक्षण किसी और कारण भी हो सकते हैं लेकिन निम्नलिखित लक्षण दिखने या महसूस होने पर चिकित्सक से मिलकर उस समस्या का निदान करने की अवश्य कोशिश करनी चाहिए |

  • स्तन के अग्रभाग को निप्पल कहते हैं निप्पल कोमलता या स्तन या बांह के नीचे वाले क्षेत्र में या उसके पास कोई गांठ या मोटा होना Breast Cancer का लक्षण हो सकती है |
  • त्वचा की बनावट में परिवर्तन या स्तन की त्वचा में छिद्रों का इज़ाफ़ा भी Breast Cancer का लक्षण हो सकती है |
  • स्तन में गाँठ होना भी Breast Cancer का लक्षण हो सकती है गाँठ होने पर चिकित्सक से इसकी जांच अवश्य करानी चाहिए |
  • स्तनों के आकार प्रकार में असमान्य बदलाव आना |
  • स्तन में कहीं भी छेद होना |
  • Breast में असमान्य सूजन भी Breast Cancer का लक्षण हो सकती है |
  • स्तनों की असमान्य सिकुड़न/संकुचन भी एक लक्षण हो सकती है |
  • एक स्तन काफी छोटा एवं दूसरा काफी बड़ा होना अर्थात स्तनों की विषमता भी Breast Cancer का लक्षण हो सकती है | हालांकि यह एक सामान्य सी बात है की एक स्तन दूसरे स्तन से थोडा छोटा होता है लेकिन यदि पहले से ऐसा है तो यह सामान्य है किन्तु यदि हाल ही में यह बदलाव आया हो तो चिकित्सक को अवश्य दिखाना चाहिए |

 Test for Breast Cancer(स्तन कैंसर की जांच):

यद्यपि यदि स्तन में कोई गाँठ बड़ी हो अर्थात महसूस करने वाली हो तो डॉक्टर Biopsy, Ultrasound इत्यादि कराने की सलाह दे सकते हैं | लेकिन यदि उपर्युक्त में से कोई Cancer Symptoms महिला को महसूस हो रहे हैं तो उसे तुरंत चिकित्सक को दिखाना चाहिए चिकित्सक महिला को Mammogram test कराने की सलाह दे सकते हैं | क्योंकि अक्सर होता क्या है की रजोनिवृत्ति (Menopause) से पहले महिलाओं के स्तन अधिक ठोस एवं गठीले हो सकते हैं जबकि रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं में एस्ट्रोजेन की संख्या कम होने लगती है जिसके चलते महिलाओं के स्तन कम ठोस एवं मुलायम होने लगते हैं | कहने का तात्पर्य यह है की रजोनिवृत्ति से पहले यदि किसी महिला के स्तन में कोई गाँठ हो तो उसे आसानी से महसूस नहीं किया जा सकता इसलिए स्तन में छोटी से छोटी गाँठ का पता करने के लिए Mammogram test किया जाता है | इसके बावजूद यदि स्तन में किसी गाँठ का पता Mammogram test के माध्यम से चलता है तो उसके बाद वह गाँठ सामान्य गाँठ है या कैंसर वाली गाँठ है यह पता करने के लिए Biopsy की जाती है | गाँठ में कैंसर मौजूद होने पर चिकित्सक विभिन्न प्रकार की जांच के लिए मरीज को कह सकता है जिससे चिकित्सक यह पता लगाने में सक्षम हो सके की कहीं कैंसर स्तन के अलावा शरीर के अन्य हिस्से में तो नहीं फैला हुआ है |

Treatment of Breast Cancer in Hindi:

प्रभावित महिला के सभी जांचों के परिणाम स्वरूप विशेष तौर पर Biopsy के परिणाम और कैंसर के प्रकार के आधार पर, स्वयं महिला एवं उसका चिकित्सक Breast Cancer को ठीक करने के लिए सबसे उपयुक्त Treatment का निर्णय करेंगे | निम्नलिखित उपचारों में से कोई एक उपचार या एक से अधिक उपचार महिलाओं के Breast Cancer Treatment के लिए चिकित्सक द्वारा चूना जा सकता है |

  1. Surgery (शल्यक्रिया):

स्तन से अधिक से अधिक कैंसर को शरीर से दूर करने के उद्देश से Surgery को अंजाम दिया जा सकता है | Breast Cancer से प्रभावित स्तन के उपचार करने के लिए सर्जरी में भी दो तरह की प्रक्रियाओं में से किसी एक को अंजाम दिया जा सकता है | कैंसर से प्रभावित पूरे स्तन को शरीर से अलग कर देने की प्रक्रिया mastectomy कहलाती है | स्तन के किसी हिस्से को शरीर से अलग करने की प्रक्रिया lumpectomy कहलाती है | दोनों में से किसी भी प्रकार की सर्जरी को अंजाम देने के लिए भुजाओं यानिकी बाँहों के नीचे विद्यमान लसिका ग्रंथियों की जांच की जाती है | इसके बाद भी Breast Cancer से प्रभावित महिला को चिकित्सक और अधिक उपचार करने के लिए कह सकता है क्योंकि  mastectomy या lumpectomy इस बात की बिलकुल गारंटी नहीं देते की कैंसर पूर्ण रूप से शरीर से दूर हो गया | इन उपचारों के बावजूद भी बिलकुल महीन Cancer Cells शरीर में विद्यमान हो सकती हैं यह इसलिए होता है क्योंकि ये Cancer Cells इतने छोटे होते हैं की इनका पता लगाना बेहद मुश्किल होता है |

  1. Radiation Therapy (विकिरण थेरेपी):

जिन महिलाओं के Breast Cancer का Treatment lumpectomy शल्यक्रिया करके किया जाता है उन्हें चिकित्सक Radiation Therapy का भी सुझाव दे सकते हैं सामान्यतया  lumpectomy surgery पूर्ण हो जाने के बाद हमेशा विकिरण थेरेपी की जाती रही है | यह थेरेपी सम्पूर्ण स्तन का Treatment करने के लिए की जाती है | और इसे surgery करने के 5-6 हफ्ते के बाद किया जाता है |

  1. Hormone Therapy and Chemotherapy:

Breast Cancer को शरीर से पूर्ण रूप से समाप्त करने के लिए सर्वप्रथम उसकी फैल रही गति को नियंत्रित करना होता है इसलिए हो सकता है चिकित्सक सर्जरी से पहले Hormone Therapy और Chemotherapy कर सकता है इसके अलावा Surgery के बाद शरीर में बचे हुए Cancer Cells को नष्ट करने के लिए भी Hormone Therapy और Chemotherapy की जा सकती है | Hormone Therapy में Breast Cancer से प्रभावित महिला को टेबलेट के रूप में दवाएं दी जाती हैं यह दवाएं शरीर में एस्ट्रोजेन के खिलाफ कार्य करती हैं | Chemotherapy में दवाएं टेबलेट या आईवी के रूप में दी जाती हैं आइवी से हमारा आशय ट्यूब के माध्यम से दवाएं देने की प्रक्रिया से है |

About Author:

HBG Health desk is a team of Experienced professionals holding various skills. They are expert to do research online and offline on health, beauty, wellness, and other components of health in Hindi.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *