Cancer History Cause and stages

Cancer का नाम सुनते ही सम्पूर्ण शरीर में सिहरन पैदा हो जाती है जी हाँ क्योंकि कैंसर एक जानलेवा बीमारी है | यद्यपि यह कैंसर नामक बीमारी की history बहुत पुरानी है लेकिन इस बीमारी को पहली बार कैंसर के नाम से संबोंधित करने का श्रेय ग्रीक के एक चिकित्सक Hippocrates को जाता है, जिन्हें बाद में औषधि के पिता यानिकी Father Of Medicine की संज्ञा दी गई | Hippocrates ने घाव युक्त Tumor और घाव मुक्त Tumor के लिए दो अलग अलग निबंधनो carcinos और carcinoma का  वर्णन किया  |  जहाँ ग्रीक भाषा में ये शब्द एक केकड़े को संदर्भित करते हैं, बाद में एक रोमन चिकित्सक  Celsus  ने इन ग्रीक टर्म को कैंसर के तौर पर अनुवादित किया | इसके बाद में भी ग्रीक के ही एक अन्य चिकित्सक ने Tumor को वर्णित करने के लिए Oncos शब्द का इस्तेमाल किया था जिसका अभिप्राय सूजन या फुलाव होता है | Hippocrates और Celsus की Crab analogy को malignant tumors को वर्णित करने में आज भी उपयोग में लाया जाता है जबकि Galen की टर्म को कैंसर रोग विशेषज्ञों के नाम के हिस्से के तौर पर प्रयोग में लाया जाता है | इतिहास में कैंसर का जिक्र मिलना कोई आश्चर्यजनक बात बिलकुल नहीं है मनुष्य एवं जानवरों में प्राचीनकाल में भी कैंसर की बीमारी को पाया गया था | ऐतिहासिक सबूतों के तौर पर प्राचीन काल की हड्डियों के tumor में मिले cancer के लक्षणों को माना जा सकता है | प्राचीन हस्तलेखों एवं प्राचीन मिस्र में मनुष्य के कंकालों में मुख्य रूप से हड्डी का कैंसर एवं खोपड़ी के कैंसर होने का सबूत एवं जिक्र है | यद्यपि इस बीमारी को कैंसर बाद में नाम दिया गया लेकिन यह बीमारी प्राचीन काल से ही चली आ रही है |

Cancer-history cause stage

पूरा आर्टिकल (लेख) एक नज़र में.

Cancer Kya hai:

Cancer एक बेहद ही खतरनाक अर्थात जानलेवा बीमारी है, जिसका वक्त रहते इलाज न करवाने पर या पता नहीं लगने पर मौत निश्चित होती है यह माना जाता है | Cancer नामक इस जानलेवा बीमारी की शुरुआत तब होती है जब शरीर के किसी हिस्से में Cell अनियंत्रित होकर बढ़ने लगते हैं | यद्यपि कैंसर के कई प्रकार होते हैं लेकिन सभी प्रकार का कैंसर तभी शुरू होता है जब शरीर के किसी हिस्से में cell असामान्य गति से बढ़कर अनियंत्रित हो जाते हैं | Cells अर्थात कोशिकाओं का शरीर में काम करने की एक निश्चित प्रक्रिया होती है शरीर तभी स्वस्थ रहता है जब सामान्य कोशिकाओं को एक व्यवस्थित तरीके से विभाजित किया गया हो, शरीर में कोशिकाएं मरती रहती हैं और उनके स्थान पर नई कोशिकाएं जन्म लेकर उनका कार्य करती रहती हैं | जब कोशिकाएं अनियंत्रित तरीके से बढ़ने लगती हैं अर्थात कैंसर कोशिकाएं लगातार नई कोशिकाओं को जन्म देती हैं जिसके कारण इनकी गिनती सामान्य कोशिकाओं में न होकर असामान्य कोशिकाओं के तौर पर की जाती हैं | यह स्थिति शरीर के उस भाग में हो रही होती है जहाँ से कैंसर की शुरुआत हो रही होती है | इस प्रकार की कैंसर कोशिकाएं शरीर के किसी भी हिस्से की ओर फैल सकती हैं |
यद्यपि कैंसर केवल एक प्रकार की बीमारी नहीं है अपितु इसके कई प्रकार जैसे फेफड़े का कैंसर, स्तनों का कैंसर, ब्लड कैंसर, हड्डियों का कैंसर, ब्रेन Tumor इत्यादि होते हैं | कैंसर कुछ मायनों में एक जैसे ही होते हैं लेकिन फैलने और बढ़ने के आधार पर ये अलग अलग होते हैं | अर्थात कुछ कैंसर बड़ी तीव्र गति से शरीर के एक भाग से दूसरे भाग की ओर फैलते हैं तो कुछ बड़ी धीमी धीमी गति से शरीर पर अपना शिकंजा अर्थात दायरा बनाने की कोशिश करते हैं | यही कारण है की इनके फैलने की क्षमता के आधार पर और स्टेज के आधार पर इनका इलाज भी अलग अलग तरह से किया जाता है | कुछ कैंसर जैसे Breast Cancer इत्यादि का सर्जरी के माध्यम से इलाज किया जाता है तो कुछ कैंसर को कीमोथेरेपी अर्थात दवाओं के माध्यम से ठीक किया जाता है | यदि किसी जीवधारी को कैंसर होता है तो सर्वप्रथम डॉक्टर यह पता लगाने की कोशिश करते हैं की यह किस प्रकार का कैंसर है, ताकि वो उसी आधार पर उसका इलाज शुरू कर सकें  |
जब शरीर के किसी भाग में गाँठ में कैंसर होता है तो इसे ट्यूमर कहते हैं जैसे ब्रेन ट्यूमर इत्यादि हालांकि हर गाँठ कैंसर नहीं होती | गाँठ कैंसर के कारण है या किसी अन्य वजह से यह पता करने के लिए डॉक्टर गाँठ के एक टुकड़े को निकालकर टेस्ट करने हेतु भेजते हैं | ऐसी गाँठ जो सामान्य गाँठ होती है उसे मेडिकल की भाषा में benign और जिस गाँठ में कैंसर विद्यमान रहता है उसे malignant कहा जाता है | इसके अलावा यह भी सत्य नहीं है की कैंसर से हमेशा शरीर के किसी हिस्से में गाँठ का प्रादुर्भाव होता है | कुछ ऐसे कैंसर जैसे leukemia यानिकी Blood Cancer में किसी प्रकार की गाँठ उत्पन्न नहीं होती है | यह कैंसर खून की कोशिकाओं एवं अन्य कोशिकाओं में उत्पन्न होता है और वही से बढ़ता एवं फैलता है |

Cancer ke Common Cause:

हालांकि Cancer नामक यह बीमारी किसी को भी हो सकती है लेकिन कुछ ऐसे कारण है जिनसे यह बीमारी होने की संभावना अधिक हो जाती है |

  • तम्बाकू एवं धुम्रपान का सेवन करने वाले लोगों में यह बीमारी होने का खतरा अधिक रहता है |
  • पौष्टिक आहार न लेना एवं शारीरिक क्रियाशीलता का कम होना |
  • वायरस एवं अन्य इन्फेक्शन |
  • सूर्य विकिरण एवं अन्य विकिरण |

Cancer Stage:

Cancer stage से आशय शरीर में कैंसर की अवस्था से है | यानिकी कैंसर शरीर में कितना फैल चूका है इस आधार पर Cancer Stage को चार भागों में विभाजित किया गया है |  इस बीमारी का इलाज करने से पहले डॉक्टर Cancer Stage जानने के लिए मरीज का विभिन्न प्रकार के टेस्ट कराते हैं ताकि डॉक्टर को कैंसर स्टेज के बारे में पता लग सके | कहने का आशय यह है की जब डॉक्टर यह जानने की कोशिश करते हैं की कैंसर शरीर में कैसे फैल रहा है, कितना फैल चूका है और इसकी शुरुआत शरीर के कौन से भाग में हुई थी तो हम कह सकते हैं की डॉक्टर Cancer Stage पता करने की कोशिश कर रहा है | माना ये जाता है की Cancer की स्टेज जितनी कम होगी यानिकी (1-2 Stage) वह यह इंगित करेगा की कैंसर शरीर में ज्यादा नहीं फैल रखा है, इसके विपरीत अधिक अर्थात 3-4 Stage यह इंगित करती है की कैंसर शरीर में फैल चूका है |

Cancer Ka Ilaj Kaise kiya Jaata hai:

यद्यपि जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं की कैंसर के इलाज का जो सबसे सामान्य सा तरीका है वह है सर्जरी के द्वारा इलाज , कीमोथेरेपी, और रेडिएसन के माध्यम से इलाज करना | जहाँ सर्जरी का उपयोग कैंसर को शरीर से अलग करने के लिए किया जाता है | कभी कभी जरुरत पड़ने पर डॉक्टर कैंसर से प्रभावित शरीर के भाग का कुछ हिस्सा या पूरा हिस्सा भी निकाल सकते हैं | जैसे Breast Cancer की स्तिथि में ब्रेस्ट का कोई हिस्सा या सम्पूर्ण ब्रैस्ट भी शरीर से अलग की जा सकती है | Prostate Cancer की स्तिथि में प्रोस्टेट ग्रंथि
को बाहर निकालना पड़ सकता है | हर प्रकार के कैंसर के लिए सर्जरी नहीं की जाती है जैसे Blood Cancer यानिकी leukemia को कीमोथेरेपी अर्थात दवाओं के माध्यम से कैंसर कोशिकाओं को मारने या उनकी बढ़ोत्तरी को कम करने की कोशिश की जाती है | इसी प्रकार रेडिएसन पद्यति का उपयोग भी कैंसर की कोशिकाओं को मारने या उनकी ग्रोथ को कम करने के उद्देश्य से की जाती है | रेडिएसन पद्यति द्वारा इलाज एक X-Ray लेना जैसा होता है | किसी कैंसर मरीज के लिए कौन सा इलाज उपयुक्त होगा यह सिर्फ सारी जांच पड़ताल करके डॉक्टर ही बता सकते हैं क्योंकि बहुत सारे ऐसे कैंसर होते हैं जिनके इलाज में सर्जरी अधिक प्रभावी होती है और कुछ ऐसे जिनमे Chemotherapy एवं Radiation ज्यादा प्रभावी होते हैं |

About Author:

HBG Health desk is a team of Experienced professionals holding various skills. They are expert to do research online and offline on health, beauty, wellness, and other components of health in Hindi.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *