तांबे के शरीर में कार्य स्रोत, कमी के लक्षण एवं स्वास्थ्य लाभ.

copper source benefits deficiency

1928 में पहली बार ई. बी. हार्ट और उसके सहकर्मियों के अध्ययनों से प्रमाणित हुआ कि रक्ताल्पता (एनीमिया) वाले चूहों में हेमोग्लोबिन के निर्माण के लिये तांबा या कॉपर आवश्यक तत्व है। वयस्क मानव शरीर में 75 मि.ग्रा. से 150 मि.ग्रा. तांबा होता है। नवजात शिशुओं में वयस्कों की तुलना में तांबे की सघनता अधिक

एर्जीनीन के कार्य स्रोत कमी के लक्षण एवं स्वास्थ्य लाभ.

arginine ke fayde srot kami ke lakshan

एर्जीनीन एक आवश्यक या प्रमुख एमिनो एसिड है। यह बचपन में भोजन से प्राप्त किया जाता है, लेकिन बाद में इसका उत्पादन शरीर द्वारा किया जाता है। पुरुष के वीर्य द्रव का अस्सी प्रतिशत एर्जीनीन द्वारा बनता है, इसलिये इसे ‘पितृत्व’ एमिनो एसिड कहा जाता है। अभी ऐसा कोई सही वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि

एमिनो एसिड का मानव शरीर में महत्व एवं आवश्यक एमिनो एसिड।

Amino-Acid

एमिनो एसिड किसे कहते हैं जैविक यौगिक पदार्थों के बड़े समूह को एमिनो एसिड कहा जा सकता है। जो प्रोटीन विभाजन के अंतिम पदार्थ का प्रतिनिधित्व करते हैं। प्रोटीन के बिना जीवन संभव नहीं है। शारीरिक वृद्धि, विकास तथा कार्य क्षमता प्रोटीन पर निर्भर हैं और प्रोटीन एमिनो एसिड की सही उपलब्धता पर। जब हम

सोडियम के स्रोत कार्य फायदे एवं कमी के लक्षण

Sodium-ke-source

सोडियम क्लोराइड यह सामान्य नमक या साल्ट का रासायनिक नाम है इसका प्रयोग मानव तब से ही करता आ रहा है जब से इतिहास के अभिलेख प्राप्त हुये हैं। किसी 65 कि.ग्रा. के भार वाले स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में सोडियम क्लोराइड की मात्रा 256 ग्राम होती है । इसमें से लगभग आधी मात्रा कोशिका

पोटैशियम के फायदे स्रोत कमी के लक्षण

potassium-ke-srot

पोटैशियम सबसे महत्त्वपूर्ण खनिजों में से एक है तथा यह प्रत्येक कोशिका के जीवन के लिये आवश्यक है । यह ऊतकों में पाये जाने वाले खनिजों में पर्याप्त मात्रा में मिलता है । पोटैशियम मुख्यरूप से अंतर-कोशिका द्रव में पाया जाता है । कोशिका के बाहर द्रव में पोटैशियम की कम मात्रा सामान्य पेशीय गतिविधि

विटामिन बी9 के फायदे, कार्य, स्रोत एवं कमी के लक्षण ।

विटामिन बी9

विटामिन बी9 अर्थात फोलेसिन या फोलेट को सबसे पहले 1938 में मुर्गियों के लिये आवश्यक भोजन पदार्थ के रूप में पहचाना गया था बाद में इसे अन्य पशुओं तथा मानव के लिये भी आवश्यक पाया गया । उपचार के लिये विटामिन बी9 का उपयोग 1945 में टी. डी. स्पाइस ने किया था जिसने इसे गर्भावस्था से

Vitamin B12 के फायदे, स्रोत, कार्य एवं कमी के लक्षण

vitamin b12 ki jankari

एक अधिकारिक जानकारी के मुताबिक 1948 में दो स्वतंत्र समूहों ने यकृत से Vitamin B12 को अलग किया । इंग्लैण्ड में ई. एल. स्मिथ तथा अमेरिका में एल. एफ. पार्कर इन दो समूहों का नेतृत्व कर रहे थे । हॉजकिन जिसने 1964 में रसायन विज्ञान में नोबेल पुरस्कार जीता था उसके सहकर्मियों ने निष्कर्ष निकाला