Chemotherapy क्या है इसमें दवाई कैसे डी जाती है और इसके दुष्प्रभाव.

Chemotherapy को सामान्य शब्दों में Chemo भी कहा जाता है कीमोथेरेपी का अर्थ दवाइयों के माध्यम से कैंसर का उपचार करने की प्रक्रिया से लगाया जाता है | Chemotherapy में प्रयुक्त की जाने वाली दवाओं की मदद से कैंसर कोषाणुओं को शरीर से नष्ट किया जा सकता है , कम किया जा सकता है या फिर कैंसर को शरीर में बढ़ने फैलने से रोका जा सकता है | इसके अलावा ये दवाइयां कैंसर के कारण बने ट्यूमर के आकार को भी छोटा करने में मदद करती हैं और कैंसर के दर्द एवं अन्य लक्षणों में आराम पहुंचती हैं |

Chemotherapy

कीमोथेरेपी क्या है (What is Chemotherapy in Hindi):

Chemotherapy में चिकित्सक कैंसर के उपचार के लिए कैंसर पीड़ित व्यक्ति पर कैंसर के कोषाणुओं को नष्ट करने के लिए कैंसर रोधी दवाओं का इस्तेमाल करते हैं | इन कैंसर रोधी दवाओं को खून में वहन किया जाता है ताकि वे शरीर के अधिक से अधिक हिस्सों में कैंसर कोशिकाओं तक पहुँच पायें | Chemotherapy शरीर में विभाजित हो रही कोशिकाओं को नुकसान पहुँचाने का काम करती हैं ताकि वे मर जाएँ | इस उपचार के दौरान असमान्य कोशिकाओं तो क्षति पहुँचती ही है लेकिन स्वस्थ्य या सामान्य कोशिकाओं को भी नुकसान हो सकता है लेकिन स्वस्थ्य कोशिकाएं पुन: अपने आप को ठीक करने में समर्थ होती हैं | Chemotherapy नामक इस कैंसर treatment में पीड़ित व्यक्ति को चिकित्सक एक या एक से अधिक दवाइयां दे सकते हैं | सामान्य शब्दों में दवाओं द्वारा कैंसर का इलाज कराना ही कीमोथेरेपी कहलाती है |

Intravenous chemotherapy:

कैंसर की विभिन्न दवाओं को किसी नस में इंजेक्शन के माध्यम से दी जाने वाली क्रिया को Intravenous chemotherapy कहते हैं | शरीर के विभिन्न अंगों में अलग अलग Tube का इस्तेमाल शरीर में इंजेक्शन के माध्यम से दवाएं पहुँचाने के लिए किया जाता है |

  • जब चिकित्सक बांह या उलटी हथेली की नस के माध्यम से शरीर में कैंसर रोधी दवाएं पहुँचाने का काम करता है तो उन्हें Cannula Tube की आवश्यकता होती है | अर्थात बांह या उलटी हथेली पर लगी tube को Cannula कहा जाता है |
  • सीने की त्वचा में से ह्रदय के पास की नस में डाली गई tube को Central Line कहा जाता है |
  • एक ऐसी पतली tube को जिसे हाथ के जोड़ या भुजा के उपरी हिस्से की नस में डाला जाता है और तब तक अन्दर प्रविष्ट कराया जाता है जब तक की उस tube का एक सिरा ह्रदय के पास किसी नस में न पहुँच जाए ऐसी tube को peripherally inserted central catheter (PICC) कहते हैं |
  • एक पतली, मुलायम प्लास्टिक की tube जिसे पीड़ित के ह्रदय के पास की किसी नस में डाला जाता है जो महसूस करने पर एक गाँठ सी लगती है को portacath कहा जाता है |

इनके अलावा Intravenous chemotherapy में कभी कभी लम्बे समय के लिए दवाइयों की निश्चित मात्रा देने के लिए Infusion Pumps का भी इस्तेमाल किया जाता है | ऐसे पंप एक दो दिन से लेकर एक हफ्ते तक चल सकते हैं | इन पम्पों को अधिक से अधिक एक हफ्ते में बदलना जरुरी होता है इनके लगे रहने पर भी पीड़ित व्यक्ति घर जा सकता है और रोजमर्रा की जिंदगी जी सकता है |

कीमोथेरेपी में दवा देने का तरीका (Method to Give Medicine in Chemotherapy):

Chemotherapy में कैंसर के प्रकार, आकार, स्टेज इत्यादि को मद्देनज़र रखते हुए दवाइयां कुछ इस तरह से दी जा सकती हैं |

  • सामूहिक रूप से अन्य दवाइयों के साथ |
  • कैंसर से निर्मित tumor को छोटा करने हेतु सर्जरी/Radiation Therapy से पहले या बाद में भी Chemotherapy दी जा सकती है |
  • Treat Cycle बनाकर जिसमे बीच बीच में शरीर को आराम करने हेतु समय दिया जाता है | ताकि शरीर को आराम मिलकर वह अच्छा हो सके |
  • सम्पूर्ण शरीर में या सिर्फ कैंसर वाले स्थल पर Chemotherapy दी जा सकती है |
  • Chemotherapy IV, गोली, इंजेक्शन, त्वचा पर लगाये जाने वाले लोशन या क्रीम के रूप में भी दी जा सकती है |
  • अस्पताल, चिकित्सक के कार्यालय या क्लिनिक में कीमोथेरेपी दी जा सकती है |
  • दवाइयों की मात्रा एवं प्रकार चिकित्सक द्वारा तय की जाती हैं |

कीमोथेरेपी के दुष्प्रभाव (Side Effects of Chemotherapy):

Cancer Cells यानिकी कैंसर कोषाणुओं की विकसित होने की गति सामान्य कोषाणुओं से तीव्र होती है | और Chemotherapy तीव्र गति से बढ़ रहे कोषाणुओं को नष्ट करने का कार्य करती है | चूँकि Chemo Treatment के अंतर्गत दी जाने वाली दवाएं सम्पूर्ण शरीर में पहुँचती हैं इसलिए ये कैंसर कोशिकाओं के अलावा कुछ सामान्य कोशिकाओं जैसे बाल, मुहँ, पाचन तंत्र एवं अन्य रक्त प्रवाह कोशिकाओं को समाप्त कर उनके विकसित होने की क्षमता को कम कर सकती है | Chemotherapy के चलते निम्नलिखित दुष्प्रभाव (Side effects) देखने को मिल सकते हैं |

  • मुहँ में छाले हो सकते हैं |
  • जी मिचलाना या उल्टियाँ हो सकती हैं |
  • पेट खराब अर्थात दस्त हो सकते हैं |
  • बालों का गिरना शुरू हो सकता है |
  • संक्रमण अर्थात इन्फेक्शन हो सकता है |

इनके अलावा Chemotherapy treatment में थकान, खून की कमी, कब्ज की शिकायत, वजन में बदलाव, त्वचा का रूखापन, व्यवहारिक बदलाव इत्यादि हो सकते हैं |

About Author:

HBG Health desk is a team of Experienced professionals holding various skills. They are expert to do research online and offline on health, beauty, wellness, and other components of health in Hindi.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *