Colonoscopy Test कैसे किया जाता है तैयारी एवं देखभाल.

Colonoscopy test को चिकित्सकों द्वारा बड़ी आंत की जांच करने के उद्देश्य से अंजाम तक पहुँचाया जाता है बड़ी आंत के कैंसर का पता भी इस जांच के माध्यम से किया जा सकता है | इस जांच को पूर्ण रूप से अंजाम तक पहुँचाने के लिए चिकत्सकों द्वारा एक पतली नली Scope का प्रयोग किया जाता है जिसे प्रभावित व्यक्ति या महिला के मलाशय में रखा जाता है और यह स्कोप लचीला होता है जिसे बड़ी आंत में भेजा जाता है | इसी नली अर्थात स्कोप के माध्यम से चिकित्सक बड़ी आंत के अन्दर देख पाने में सक्षम होता है | और उसके बाद चिकित्सक द्वारा छोटी सी कोशिका का एक सैंपल लिया जा सकता है जिसे Biopsy के लिए भेजा जा सकेगा | Colonoscopy test के लिए अस्पताल आ रहे व्यक्ति को चाहिए की वह अपने साथ किसी मित्र या घर के सदस्य को लेके आये जो जांच के व्यक्ति को घर तक ले जायेगा क्योंकि इस Colonoscopy test के बाद व्यक्ति के लिए वाहन चलाना घातक सिद्ध हो सकता है |

Colonoscopy test

कोलनस्कोपी के लिए तैयारी (How to be ready for Colonoscopy test in hindi):

Colonoscopy test के लिए तैयार होने के लिए चिकित्सक द्वारा मरीज को कुछ हिदायतें एवं दवाओं का उपयोग करने को कहा जा सकता है | हालांकि इस जांच को करने में 30-50 मिनट का समय लगता है लेकिन फिर भी मरीज को चाहिए की वे अपना 2-3 घंटों का समय निकाल के आयें | Colonoscopy test कराने से पहले मरीज को निम्न तैयारियों की आवश्यकता हो सकती है |

  • यदि चिकित्सक द्वारा किसी भी दावा का उपयोग करने के लिए कहा गया हो तो मरीज को चिकित्सक के बताये समयानुसार वह दवाई अवश्य लेनी चाहिए |
  • यदि कोई व्यक्ति मधुमेह से पीड़ित या किसी अन्य रोग की दवाइयों का सेवन करते हों तो यह बात चिकित्सक को अवश्य बतानी चाहिए |
  • Colonoscopy test कराने के पांच दिन पूर्व से व्यक्ति को चाहिए की अपने भोजन में फाइबर की मात्रा बिलकुल कम कर दे और बीजयुक्त फलों से परहेज बना कर रखे | इसके अलावा ऐसी किसी भी दवाई का सेवन न करे जो फाइबर पूरक हो |
  • यदि व्यक्ति या महिला की नियमित तौर पर कोई दवाइयां चल रही हो तो वे चिकित्सक से इस बारे में पूछ सकते हैं की क्या वे अपनी दवाइयां उस सुबह ले सकते हैं जिस दिन यह टेस्ट होना है |
  • Colonoscopy test के एक दिन पहले से किसी प्रकार का कोई ठोस आहार नहीं लेना चाहिए |
  • तरल पदार्थों में सादा पानी, शिकंजी, गुदारहित फलों का रस, पारदर्शक पेय इत्यादि पी सकते हैं |
  • पीने वाले पानी में prep powder मिलाकर पी सकते हैं |
  • चिकित्सक के आदेश पर बताये गए समय पर Fleet Enema का उपयोग किया जा सकता है |
  • मध्यरात्रि से जांच पूर्ण होने तक प्रभावित व्यक्ति को कुछ भी खाना पीना नहीं चाहिए |

कोलनस्कोपी कैसे की जाती है (How Colonoscopy Test is accomplished):

जिस महिला या व्यक्ति का Colonoscopy Test होना हो उसके अस्पताल में पहुँचते ही नर्स या अन्य स्टाफ व्यक्ति या महिला के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेने की कोशिश करते हैं इस प्रक्रिया में अस्पताल का स्टाफ व्यक्ति या महिला से उसके द्वारा नियमित तौर पर ली जाने वाली किसी भी प्रकार की दवाई चाहे वह हर्बल दवाएं हों, विटामिन की दवाएं हों, डॉक्टर द्वारा Prescribed दवायें हों, या बिना Prescription की दवाएं हों व्यक्ति या महिला को चाहिए की वह सबके बारे में मेडिकल स्टाफ को बताये | इसके अलावा यदि किसी प्रकार की कोई दवाई लेने से व्यक्ति या महिला को एलर्जी होती हो या फिर पूर्व में कोई सर्जरी या ऑपरेशन हुआ हो, या महिला गर्भवती हो, तो स्टाफ को बताना जरुरी है | मेडिकल स्टाफ को यह सब जानकारी देने के बाद व्यक्ति या महिला को |

  • अस्पताल की तरफ से पहनने के लिए गाउन दिया जा सकता है उस गाउन को पहनने के बाद |
  • व्यक्ति या महिला की नस में एक Intravenous (अंत: शिरा) नली डाली जा सकती है | इस क्रिया को करने के बाद व्यक्ति या महिला को दर्द न हो इसके लिए चिकित्सक द्वारा इसके माध्यम से मरीज को दवाई दी जाती है |
  • उसके बाद समबन्धित व्यक्ति या महिला बाई करवट लेकर लेट जाते हैं और चिकित्सक द्वारा घुटने ऊपर की और अर्थात सीने की और रखने को कहा जा सकता है |
  • अब चिकित्सक द्वारा एक Scope समबन्धित व्यक्ति के मलाशय के रस्ते से बड़ी आंत में धीरे धीरे डाला जाता है यह क्रिया करते वक्त समबन्धित व्यक्ति को मल त्याग करने की इच्छा जाग सकती है | इसमें व्यक्ति चाहे तो मुहं से धीमे धीमे गहरी सांस ले सकता है |
  • चिकित्सक द्वारा बड़ी आंत में स्कोप के माध्यम से थोड़ी बहुत हवा डाली जा सकती है और Colonoscopy Test के दौरान समबन्धित व्यक्ति ऐंठन या असुविधा महसूस कर सकता है |
  • बड़ी आंत की जांच के बाद चिकित्सक द्वारा डाले गए स्कोप को कुछ हवा के साथ निकाल लिया जाता है |

कोलनस्कोपी के बाद देखभाल (Feeling and Caring after colonoscopy test):

Colonoscopy test के बाद भी जांच के दौरान ली गई दवाओं का असर रहता है जिससे समबन्धित व्यक्ति उनींदा महसूस कर सकता है | व्यक्ति को टेस्ट के बाद घर के लिए अकेले प्रस्थान नहीं करना चाहिए |

  • व्यक्ति को जांच वाले स्थल पर तब तक रहना पड़ सकता है जब तक की दवाओं के अधिकांश प्रभाव समाप्त न हो जाएँ |
  • व्यक्ति के बड़ी आंत में डाली गई हवा के कारण व्यक्ति को गैस की समस्या हो सकती है |
  • जांच के 24 घंटे तक वाहन चलाना घातक सिद्ध हो सकता है |
  • सम्बंधित व्यक्ति Colonoscopy test के बाद सामान्य आहार ले सकता है |
  • जांच के बाद मलाशय से थोडा बहुत रक्त निकलना सामान्य है इसलिए घबराएँ नहीं |

इन सबके अलावा Colonoscopy test के बाद यदि व्यक्ति या महिला को तीव्र दर्द हो रहा हो, तेज बुखार हो, मलाशय से रक्त अधिक निकल रहा हो या फिर पेट बड़ा एवं टाइट महसूस हो रहा हो तो समबन्धित व्यक्ति या महिला को तुरंत चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए |

About Author:

HBG Health desk is a team of Experienced professionals holding various skills. They are expert to do research online and offline on health, beauty, wellness, and other components of health in Hindi.