Colposcopy Test – योनिभित्तिदर्शन जांच कैसे की जाती है और देखभाल.

Colposcopy को हिन्दी में योनिभित्तिदर्शन भी कहा जाता है यह Test महिलाओं की योनि एवं Cervix अर्थात गर्भाशय ग्रीवा में असमान्य कोशाणुओं यानिकी ऐसी कोशिकाएं जो अनियंत्रित गति से बढती जा रही हों के जांच के लिए किया जाता है | हालांकि Colposcopy नामक इस जांच से पहले चिकित्सक द्वारा pap smear नामक जांच के लिए कहा जा सकता है और यदि इस जांच में कुछ ऐसी कोशिकाएं पकड़ में आती हैं तो डॉक्टर और स्पष्ट करने के लिए  Colposcopy test के लिए परामर्शित कर सकते हैं | कोल्पोस्कोपी नामक इस जांच में चिकित्सक द्वारा महिला की योनि एवं सर्विक्स में अनियंत्रित गति से बढ़ने वाले असमान्य कोशिकाओं की जांच करने के लिए Magnifying Scope का प्रयोग किया जा सकता है | कोशिकाओं के सैंपल निकालने की क्रिया जिसे बायोप्सी कहा जाता है को अंजाम दिया जा सकता है और सैंपल को जांच के लिए प्रयोगशाला में भेजा जा सकता है |

colposcopy-test-in-hindi

योनिभित्तिदर्शन जाँच के लिए तैयारी (How to be ready for Colposcopy test in hindi):

हालांकि इस जांच में खास तैयारियों की आवश्यकता होती नहीं है लेकिन इसके बावजूद इस टेस्ट के लिए जा रही महिलाओं को कुछ बातों का ध्यान रखना पड़ता है |

  • Colposcopy Test में 15 से 20 मिनट तक का समय लग सकता है | लेकिन फिर भी महिला को थोडा अतिरिक्त समय तक रहने की तैयारी के साथ आना पड़ेगा |
  • महिला को चाहिए की मासिक धर्म के समय पर इस जांच को कराने का निर्णय लेने से बचें |
  • परीक्षण से 1-2 दिन पहले से सम्भोग न करें महिलाएं tampons इत्यादि का इस्तेमाल कर सकती हैं |
  • महिला चाहे तो चिकित्सक से मिलने से पहले ibuprofen या acetaminophen का सेवन कर सकती हैं लेकिन यदि महिला गर्भवती हैं तो ibuprofen का उपयोग करने से बच सकती हैं |

योनिभित्तिदर्शन जांच कैसे की जाती है (How to accomplish the test):

महिला के हॉस्पिटल में पहुँचने पर एवं Colposcopy करने से पहले अस्पताल महिला को पहनने के लिए गाउन दे सकता है | उसके बाद महिला को परीक्षण टेबल तक पहुँचाया जा सकता है और उस टेबल पर महिला अपने पाँव रकाब (stirrups) में डालकर पीठ के बल लेट जाती हैं | उसके बाद Colposcopy test को अंजाम तक पहुँचाने के लिए चिकित्सक द्वारा महिला की योनि में Metal Speculum रखा जाता है ताकि महिला की योनि खुली रहे और चिकित्सक महिला की गर्भाशय ग्रीवा अर्थात Cervix तक आसानी से देख सके | असमान्य कोशिकाओं की पहचान करने के लिए उसके बाद चिकित्सक द्वारा  गर्भाशय ग्रीवा को हलके vinegar solution से ढक लिया जाता है | यह प्रक्रिया करते वक्त महिला को झुनझुना या डसने जैसा एहसास हो सकता है | उसके बाद हो सकता है की चिकित्सक द्वारा महिला के गर्भाशय ग्रीवा से कुछ कोशाणुओं के सैंपल लिए जाएँ यह प्रक्रिया करने में महिला को थोडा सा दर्द का एहसास हो सकता है जो की अगले 1-2 मिनट में सामान्य हो जायेगा | उसके बाद यदि योनि से किसी प्रकार का कोई रक्तस्राव होता है तो उसे चिकित्सक द्वारा रासायनिक घोल का उपयोग करके बंद कर दिया जाता है |

जांच के बाद घर पर देखभाल (Caring at home after Colposcopy):

जो महिला Colposcopy test से गुजरी हों उन्हें यह जांच कराने के बाद निम्न सावधानियां बरतने की आवश्यकता हो सकती हैं |

  • महिला को जांच के बाद लगभग 24 घंटे शांतिपूर्वक आराम करना चाहिए |
  • यदि महिला जांच के बाद ऐंठन या दर्द महसूस कर रही हो तो वह इससे निजात पाने के लिए ibrufen या acetaminophen ले सकती हैं | हाँ यदि महिला गर्भवती है तो ibrufen का परहेज करे |
  • यदि महिला की गगर्भाशय ग्रीवा या योनि की Biopsy हुई है तो महिला की योनि से कुछ दिनों तक रक्तस्राव हो सकता है इसके लिए महिला Sanitary Pad का उपयोग कर सकती हैं |
  • जब तक योनि से रक्तस्राव बंद न हो जाय सम्भोग नहीं करना चाहिए |
  • टब में स्नान करने से सक्रमण का खतरा बढ़ सकता है इसलिए तीन दिनों तक शावर के नीचे ही स्नान करें |

इसके अलावा Colposcopy test के बाद यदि महिला की योनि से अत्यधिक रक्तस्राव हो रहा हो, अत्यधिक रक्तस्राव से आशय ऐसी स्थिति से है जिसमे लगभग 1 घंटे में एक Sanitary pad भर जा रहा हो | या महिला के पेट में मरोड़ या दर्द हो रहा हो, या बहुत तेज बुखार आ रहा हो या फिर गर्भाशय से किसी ऐसे तरल पदार्थ का स्राव हो रहा हो जिसमे अजीब तरह की गंध आती हो तो इन स्थितियों में महिला को तुरंत चिकित्सक से सम्पर्क करना चाहिए |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *