Computer tomography Scan (सी.टी. स्कैन)

Computer tomography Scan को साधारण बोलचाल की भाषा में CT scan के नाम से जाना जाता है | इस जांच के माध्यम से चिकित्सक द्वारा मानव शरीर के विभिन्न हिस्सों के चित्र देखकर उनमे उपलब्ध कमियों या आसाधारण चीजों का पता लगाया जाता है | जिस व्यक्ति का Computer tomography Scan test होना होता है उसकी बाजू के नस में थोड़ी बहुत मात्रा में डाई डाली जा सकती है जो कुछ दिनों में अपने आप शरीर से बाहर निकल जाती है | जिस व्यक्ति का यह परीक्षण हो रहा होता है यदि उसे दवाइयों, भोजन इत्यादि से एलर्जी है तो यह बात व्यक्ति को स्टाफ को बतानी चाहिए | यदि कोई महिला गर्भवती हैं तो जांच से पूर्व यह बात चिकित्सक या सम्बंधित स्टाफ को बतानी चाहिए | शरीर के जिस भी हिस्से का Computer tomography Scan होना है एक हिस्से के स्कैन में 15-20 मिनट का समय लग सकता है |

CT Scan in hindi

पूरा आर्टिकल (लेख) एक नज़र में.

How to be ready for CT scan:

यद्यपि CT Scan नामक इस जांच के लिए तैयार होने में कुछ विशेष तैयारियों की आवश्यकता होती नहीं है लेकिन कुछ प्रमुख सावधानियां निम्न हैं |

  • इस परीक्षण के लगभग 4 घंटे पूर्व से व्यक्ति को कुछ खाना पीना नहीं चाहिए यहाँ तक की पानी पीना भी वर्जित है |
  • यदि व्यक्ति की दवाइयां चल रही है तो चिकित्सक यह लेनी हैं यंही इसके बारे में व्यक्ति को सुझाव दे सकते हैं |
  • यदि व्यक्ति का पेट या Pelvis का Scan होना है तो व्यक्ति को लगभग 2-3 घंटों का समय निकालकर आना चाहिए क्योंकि अस्पताल पहुंचकर चिकित्सक या स्टाफ व्यक्ति को कुछ डाई पीने को दे सकते हैं | जो जांच से पूर्व एक निश्चित समय पर पीना पड़ता है |

How CT scan Test is accomplished:

जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं यदि व्यक्ति के उदर या Pelvis का स्कैन होना होता है तो व्यक्ति को जांच क्षेत्र या अस्पताल में पहुँचते ही तरल डाई पिलाई जाती है | आधे घंटे बाद दूसरी बार यह डाई फिर से पिलाई जा सकती है उसके बाद एक घंटे बाद यानिकी Computer tomography Scan से पूर्व फिर से पिलाई जाती है |

  • उसके बाद व्यक्ति को अस्पताल की तरफ से गाउन पहनने के लिए दिया जा सकता है और व्यक्ति को टेबल पर लेटना पड़ सकता है |
  • चिकित्सक द्वारा व्यक्ति के बाजू की नस में एक सूई (Intravenous) लगाईं जा सकती है |
  • Intravenous में सूई डालते वक्त समबन्धित व्यक्ति को कुछ उत्तेजना का आभास हो सकता है |
  • उसके बाद व्यक्ति के शरीर के सम्बंधित हिस्से को स्कैन किया जाता है व्यक्ति को चाहिए की वह स्कैन के दौरान बिलकुल हिले डूले नहीं |
  • चिकित्सक या स्टाफ द्वारा व्यक्ति को बहुत बार सांस रोकने एवं छोड़ने के लिए कहा जा सकता है |
  • हर एक स्कैन के बाद टेबल थोड़ी सी इधर उधर खिसक सकती है |

CT Scan टेस्ट के पश्चात् प्रभावित व्यक्ति अपनी सामान्य खुराक को जारी रखकर कार्य पर भी लौट सकते हैं | वे लोग जिनका पेट या pelvis scan हुआ हो उन्हें तरल पदार्थ पीने पर दस्त की शिकायत हो सकती है |

 

About Author:

HBG Health desk is a team of Experienced professionals holding various skills. They are expert to do research online and offline on health, beauty, wellness, and other components of health in Hindi.