डायबिटीज क्या है और क्यों होता है | Diabetes and its cause in Hindi

Diabetes को मधुमेह तो सामान्य बोलचाल की भाषा में शुगर भी कहा जाता है | मधुमेह एक ऐसा रोग है जो जीवन के किसी भी पड़ाव में किसी को भी हो सकता है | पिछले दशक में दुनियाभर में Diabetes disease से ग्रसित लोगों की संख्या में लगभग 50% की बढ़ोत्तरी हुई है | दुनिया भर में इस रोग से लगभग 38 करोड़ लोग प्रभावित हैं विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के एक आंकड़े के मुताबिक वर्ष 2030 तक Diabetic problem से ग्रसित लोगों की संख्या दुगुनी हो जाएगी | वर्तमान की यदि हम बात करें मधुमेह नामक यह बीमारी दुनिया में एड्स, स्तन कैंसर इत्यादि रोगों से भी अधिक लोगों की जिन्दगी को समाप्त कर देता है | भारत में भी बीतते वक्त के साथ मधुमेह नामक बीमारी के मरीजों की संख्या बढती जा रही है जो की एक चिंता का विषय है | इसलिए आज हम अपने इस लेख Best Home Remedies to control diabetes in Hindi में इस रोग को नियंत्रित करने के घरेलू उपचारों के अलावा इसके होने के कारणों एवं मधुमेह होता क्या है इसके बारे में भी जानने की कोशिश करेंगे |

Diabetes-and-its-cause-in-hindi

क्या होता है मधुमेह (What is diabetes) :

डायबिटीज को समझाने से पहले हमें शरीर के अन्दर इन्सुलिन की भूमिका क्या होती है को समझना होगा | जब मनुष्य द्वारा खाने का कार्य किया जाता है तो उसके शरीर द्वारा इस खाए गए भोजन को शर्करा या ग्लूकोस में मोड़ा जाता है | इसी समय मनुष्य के अग्नाशय द्वारा इन्सुलिन छोड़ा जाता है | इन्सुलिन मनुष्य की कोशिकाओं को खोलने के लिए एक चाबी के तौर पर कार्य करता है ताकि ग्लूकोज को शरीर के अन्य भागों में प्रवेश करने की अनुमति मिल सके और मनुष्य द्वारा उर्जा के रूप में उस ग्लूकोज़ का उपयोग हो सके | लेकिन जब यह प्रणाली इस तरह से कार्य नहीं करती है तो इसे मधुमेह अर्थात डायबिटीज या फिर शुगर भी कहा जाता है |

डायबिटीज के मुख्य कारण (Main Cause of Diabetes in hindi):

डायबिटीज के कारण मनुष्य के आनुवंशिक श्रृंगार, पारिवारिक इतिहास, जातीयता, स्वास्थ्य और पर्यावरणीय कारकों के आधार पर अलग-अलग हो सकते हैं ।कोई भी ऐसा सामान्य डायबिटीज नहीं है, जो हर प्रकार की मधुमेह में फिट बैठता है | क्योंकि डायबिटीज होने के कोई निश्चित कारणों का पता अभी नहीं चल पाया है इसलिए व्यक्ति एवं डायबिटीज के प्रकार के आधार पर इसके होने के कारण अलग अलग हो सकते हैं |

उदाहरणार्थ: टाइप 1 डायबिटीज के कारण गर्भावधि मधुमेह के कारणों से बहुत भिन्न होते हैं। ठीक उसी प्रकार टाइप 2 मधुमेह के कारण, टाइप 1 डायबिटीज के कारणों से भिन्न होते हैं।

Type 1 डायबिटीज होने के कारण:

Type 1 नामक इस diabetes का कारण प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System) है इसमें अग्नाशय में मौजूद वे कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं जो इन्सुलिन बनती हैं | और जब शरीर को सामान्य कार्य करने के लिए पर्याप्त मात्रा में इन्सुलिन नहीं मिल पाते हैं तो तब Type 1 डायबिटीज की उत्पति होती है | चूँकि इस प्रतिक्रिया में शरीर अपने आप पर हमला कर रहा होता है इसलिए इसे ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया भी कहा जाता है | जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं डायबिटीज होने के कुछ निश्चित कारण नहीं है लेकिन टाइप 1 डायबिटीज होने के कुछ संभावित कारण निम्न हो सकते हैं |

  • वायरल या जीवाणु संक्रमण |
  • भोजन के भीतर रासायनिक विषों का होना |
  • अज्ञात घटक जिससे ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया होती है |
  • अंतर्निहित आनुवंशिक स्वभाव भी टाइप 1 डायबिटीज का कारण हो सकता है |

Type 2 डायबिटीज होने के कारण:

टाइप 2 मधुमेह के कारण सामान्य तौर पर बहुसंख्यक होते हैं | इस प्रकार के डायबिटीज होने के एक से अधिक कारण होते हैं | इस टाइप के Diabetes होने का जो सबसे बड़ा कारण है वह किसी भी मनुष्य का पारिवारिक इतिहास है | टाइप 2 डायबिटीज होने के मुख्य कारण निम्न हैं |

  • मोटापा
  • गतिहीन जीवन शैली (इससे अभिप्राय शारीरिक निष्क्रियता से है) |
  • बढ़ती उम्र
  • खराब आहार
  • इसके अलावा Type 2 diabetes के कारकों में गर्भावस्था एवं कमजोरी भी है |

गर्भकालीन डायबिटीज के कारण (Gestational diabetes causes):

गर्भावस्था के दौरान जो डायबिटीज होता है उसे गर्भकालीन डायबिटीज भी कहते हैं यद्यपि यह किन कारणों से होता है वे कारण निश्चित तौर पर ज्ञात नहीं है लेकिन कुछ संभावित कारणों की लिस्ट इस प्रकार से है |

  • गर्भकालीन डायबिटीज का पारिवारिक इतिहास
  • अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त
  • पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम से पीड़ित
  • यदि पेट में पल रहे बच्चे का वजन 9lb से अधिक हो |
  • गर्भावधि मधुमेह जातीयता से भी जुड़ा हो सकता है कुछ नस्लीय समूहों में गर्भावधि मधुमेह का अधिक खतरा होता है।

अन्य डायबिटीज के कारण :

उपर्युक्त श्रेणीबद्ध दिए गए कारणों के अलावा डायबिटीज होने के कुछ मुख्य कारण इस प्रकार से भी हैं |

  • अग्नाशयशोथ या पैनक्रेटेक्टोमी भी डायबिटीज होने के जोखिम को बढ़ाने के लिए जाना जाता है |
  • मोटापा प्रतिरोधक इन्सुलिन जिनसे पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम होने का खतरा होता है भी टाइप 2 डायबिटीज होने के जोखिम को बढाता है |
  • कुशिंग सिंड्रोम, सिंड्रोम कोर्टिसोल हार्मोन का उत्पादन बढ़ाता है, जो रक्त शर्करा का स्तर बढ़ाता है। कोर्टिसोल की एक अति-प्रचुरता से मधुमेह हो सकता है |
  • ग्लूकाकोनोमा वाले मरीजों में इंसुलिन उत्पादन और ग्लूकागन उत्पादन के स्तर के बीच संतुलन की कमी के कारण डायबिटीज का अनुभव हो सकता है।
  • स्टेरॉयड डायबिटीज़ मधुमेह का एक दुर्लभ रूप है जो ग्लुकोकॉर्टिकोइड थेरेपी के लंबे समय तक उपयोग के कारण हो सकता है ।

About Author:

HBG Health desk is a team of Experienced professionals holding various skills. They are expert to do research online and offline on health, beauty, wellness, and other components of health in Hindi.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *