दूरबीन द्वारा आपरेशन की कुछ महत्वपूर्ण जानकारी |

आधुनिक चिकित्सा प्रणाली की बात करें तो दूरबीन द्वारा आपरेशन आधुनिकतम चिकित्सा प्रणाली में से एक पद्यति है जिसे विभिन्न रोगों के ईलाज के लिए उपयोग में लाया जाता है । इसको तकनीकी भाषा में Minimal Ascess Surgery (MAS) के नाम से भी जाना जाता है यह नाम इसको इसलिए दिया गया है क्योंकि इस विधि से आपरेशन करने में शरीर को कम से कम नुकसान पहुंचता है इसलिए यह चिकित्सा पद्यति वर्तमान में बेहद प्रचलित है |

Doorbeen-dwara operation laproscopy

दूरबीन द्वारा आपरेशन के प्रकार:

दूरबीन द्वारा ऑपरेशन के प्रकारों की यदि हम बात करें तो इसे मुख्यतः दो प्रकारों अर्थात श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है |

  1. Laparoscopy :

Laparoscopy प्रक्रिया को अंजाम देते वक्त धातु की पाइप में लगी दूरबीन को किसी बड़ी जगह (Cavity) जैसे पेट या छाती में डाला जाता है उसके बाद ऑपरेशन को अंजाम तक पहुँचाया जाता है |

  1. Endoscopy:

 Endoscopy प्रक्रिया में दूरबीन को शरीर के किसी तंग जगह में डालकर देखा जाता है जैसे पेट, आंत, मूत्रनली, बच्चेदानी के अंदर की जांच इत्यादि करने की प्रक्रिया में जब दूरबीन का उपयोग किया जाता है तो इसे Endoscopy कहा जाता है । दूरबीन द्वारा आपरेशन की यदि हम बात करें तो सबसे पहले 1985 के बाद इस प्रकार के यह ऑपरेशन संभव हुए, वो भी तब जब कप्यूटर टी. वी कैमरा इत्यादि की खोज हुई । 1987 में फ्रासीसी सर्जन फिलिप मोरेट ने पहली बार पित्त की थैली का दूरबीन द्वारा सफल आपरेशन किया । भारत में पहली बार दूरबीन द्वारा पित्त की थैली का आपरेशन 1990 में मुम्बई के जे.जे. हस्पताल के प्रो. उडवाडिया ने किया ।

दूरबीन द्वारा आपरेशन के लिए आवश्यक यंत्र :

यह एक विशिष्ट नवीनतम तकनीक है जिसमें सर्जन कैमरे द्वारा देखे गए अंग को टीवी स्क्रीन पर देखकर विभिन्न यंत्रों द्वार टीवी स्क्रीन को देखते हुए ऑपरेशन की ओर अग्रसित होते हुए ऑपरेशन को अंजाम तक पहुंचाता है । दूरबीन द्वारा ऑपरेशन के लिए प्राथमिक तौर पर निम्न प्रकार के यन्त्रों की आवश्यकता हो सकती है |

  • Imaging System (कैमरा प्रणाली)

इसमें एक धातु की पाइप विभिन्न प्रकार के लैंस लगे होते हैं जिसको हम Telescope दूरबीन के नाम से जानते हैं और उसके साथ अन्दर प्रकाश डालने के लिए एक कैमरा द्वारा तस्वीर TV में आ जाती है । इस पद्यति में वस्तु बीस गुणा बड़ी दिखाई देती है जिससे आप्रेशन की सुरक्षा बढ़ जाती है ।

  • Insufflators

यह एक इलैक्ट्रोनिक पम्प है जो कि CO2 गैस को पेट के अन्दर भरने का काम करता है | और प्रैशर को नियन्त्रित करता है जिससे सर्जन को अन्दर आप्रेशन करने के लिए पर्याप्त जगह मिल जाती है ।

  • Operative instrument

    :

किसी भी प्रकार के चीरे वाले आपरेशन में प्रयुक्त होने वाले हर तरह के यंत्रों को Operative  Instrument कहा जाता है ये बेहद ही पतले रूप में उपलब्ध रहते है ।यहाँ तक की एक 5 मिमी. की पाइप को अंदर से डालकर आपरेशन किया जाता है।

दूरबीन द्वारा होने वाले आपरेशन:

  • पित्त की थैली
  • अण्डेदानी एवं बच्चेदानी की रसौली
  • अपेंडिक्स
  • हर्निया
  • गुर्दे एवं पेशाब की नली की पथरी
  • गदूद इत्यादि

दूरबीन द्वारा आपरेशन के लाभ:

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं की दूरबीन द्वारा ऑपरेशन का जो सबसे बड़ा लाभ है वह यह है की इसमें बहुत कम चीर फाड़ की आवश्यकता होती है जिससे शरीर को कम नुकसान होता है इसके अलावा अन्य भी फायदे हैं जिनकी लिस्ट कुछ इस प्रकार से है |

  • टेलीविज़न में बड़ी इमेज अर्थात तस्वीर दिखने के कारण पूरी टीम आपरेशन को एक साथ एक समान रूप से देख सकती है तथा उसके बारे में अपने अपने सुझाव दे सकती है । इस प्रक्रिया में तस्वीरें लगभग बीस गुणा बड़ा दिखने के कारण आपरेशन की सुरक्षा कई गुणा जाती है।
  • छोटा चीरा लगने के कारण आपरेशन के स्थान पर नाममात्र का दर्द होता है | इससे
  • इंफेक्शन की संभावना भी कम रहती है जिससे हर्निया बनने की संभावना भी बेहद कम हो जाती है।
  • खाना पीना जल्दी शुरू किया जा सकता है क्योंकि आंत पुरसरण क्रिया जल्दी शुरू हो जाती है। आपरेशन के बांद आत आदि अवयवों का आपस में चिपकने की संभावना कम रहती है।
  • हस्पताल में मरीज को कम समय तक रखा जाता है।
  • पूरे पेट को दूरबीन द्वारा देखा जा सकता है इसलिए कोई आपरेशन करते समय किसी अन्य बीमारी का भी पता लगाया जा सकता है और उसका आपरेशन द्वारा इलाज किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें:

एंजियोप्लास्टी सर्जरी की पूरी जानकारी |

Appendectomy सर्जरी की पूरी जानकारी |  

दूरबीन द्वारा आपरेशन की कमियां :-

यद्यपि इसके फायदों के बारे में तो हम उपर्युक्त वाक्यों में वार्तालाप कर चुके हैं लेकिन इस विधि अर्थात प्रक्रिया में कुछ कमियां भी हैं जिनका वर्णन कुछ इस प्रकार से है |

  • अगर ऊतक ज्यादा चिपके हों उनमें सूजन ज्यादा हो या यदि उनमे कैंसर की संभावना हो तो आपरेशन तकनीकी रूप से काफी मुश्किल हो सकता है।
  • दूरबीन द्वारा ऑपरेशन की प्रक्रिया को अंजाम देने में कई प्रकार के इलैक्ट्रोनिक यंत्र प्रयोग में आते हैं इसलिए किसी भी प्रणाली में त्रुटि आने पर पूरा सिस्टम फेल हो सकता है।

About Author:

HBG Health desk is a team of Experienced professionals holding various skills. They are expert to do research online and offline on health, beauty, wellness, and other components of health in Hindi.

4 thoughts on “दूरबीन द्वारा आपरेशन की कुछ महत्वपूर्ण जानकारी |

  1. लेफ्ट किडनी में 25 MM का स्टोन है 4 साल पहले एक बार PC ऐनल हो चुका है उसी किडनी में दुबारा 25 MM का हो गया है

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *