गर्भावस्था एवं मिर्गी से सम्बंधित आवश्यक जानकारी.

गर्भावस्था एवं मिर्गी से समबन्धित कुछ जरुरी जानकारी देने से पहले हम यह स्पष्ट कर देना चाहते हैं, की हम अपने पिछले दो लेखों के माध्यम से मिर्गी के कारण लक्षण एवं ईलाज, और मिर्गी की बीमारी के साथ आनंदमय जीवन जीने के तरीकों के बारे में वार्तालाप कर चुके हैं | इसलिए मिर्गी नामक इस रोग को समझने के लिए हमारे द्वारा लिखे यह लेख भी पढना नितांत आवश्यक है | यद्यपि मिर्गी नामक इस बीमारी से ग्रसित महिलाओं के अंतर्मन में अपने स्वास्थ्य को लेकर अनेक प्रश्न होते हैं जिनका उचित जवाब एक डॉक्टर के अलावा और कोई नहीं दे सकता, लेकिन यहाँ पर महिलाओं के अंतर्मन में उठने वाले कुछ सामान्य प्रश्नों जैसे क्या मिर्गी से ग्रसित महिलाएं गर्भधारण कर सकती हैं? या वे महिलाएं जो गर्भ धारण करना नहीं चाहती, क्या वे गर्भ निरोधक दवाओं के साथ मिर्गी की दवाओं का सेवन कर सकती हैं?  इस लेख गर्भावस्था एवं मिर्गी से सम्बंधित कुछ जरुरी जानकारी के माध्यम से हम इन्हीं कुछ सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे |

गर्भावस्था एवं मिर्गी

क्या मिर्गी से ग्रसित महिलाएं गर्भधारण कर सकती हैं

गर्भावस्था एवं मिर्गी की यदि हम बात करे तो अधिकांशत: देखा जाता है की मिर्गी से ग्रस्त महिलाएं इसी चिंता या फिक्र में रहती है कि क्या वे भी कभी गर्भवती हो सकती हैं? और दूसरा सवाल जो ऐसी महिलाओं के मष्तिष्क में आता है वह होता है क्या वे भी अन्य सामान्य महिलाओं की तरह एक स्वस्थ शिशु को जन्म दे सकती हैं? । तो ऐसी महिलाओं को हम अपने इस लेख के माध्यम से बता देना चाहते हैं की ऐसा सामान्य रूप से मुमकिन है । अधिकतर मिर्गी से ग्रस्त महिलाएं गर्भधारण कर सकती है, लेकिन चूँकि उन्हें मिर्गी नामक यह रोग है इसलिए इसके लिए उन्हें गर्भावस्था के पहले और गर्भावस्था के दौरान कुछ विशेष सावधानियां  अपनानी होंगी, ताकि गर्भावस्था के दौरान एवं बच्चे को जन्म देते समय आने वाली Complications एवं जोखिम को कम किया जा सके । इसलिए ऐसी महिलाएं, जो मिर्गी से ग्रसित होने के बावजूद भी गर्भधारण करना चाहती हैं उन्हें संभवतः निम्न सावधानियां अपनानी पड़ सकती हैं |

  • गर्भधारण करने की इच्छुक महिलाएं को अपने मिर्गी के रोग तथा उससे सम्बंधित दवाओं के जोखिम के विषय में अपने डॉक्टर से अवश्य बात करनी चाहिए |
  • जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में भी बता चुके हैं की अधिकतर मिर्गीग्रस्त महिलाएं गर्भधारण कर सकती हैं और एक स्वस्थ शिशु को जन्म भी दे सकती हैं ।
  • यद्यपि सभी गर्भवती महिलाओं के लिए नियमित रूप से चिकित्सकीय देखभाल जरूरी है, लेकिन मिर्गी से ग्रस्त गर्भवती महिलाओं के लिए अपने प्रसूति विशेषज्ञ (gynecologist) और न्यूरोलाजिस्ट की नियमित देखभाल अत्यंत आवश्यक है ।
  • गर्भावस्था एवं मिर्गी में हमें यह जान लेना चाहिए की मिर्गी से ग्रस्त महिलाओं के लिए अपनी गर्भावस्था के दौरान उचित दर्जे की देखभाल बेहद जरुरी है |
  • मिर्गी से ग्रसित महिलाओं को किसी भी प्रकार की दवा डॉक्टर से पूछे बिना नहीं लेनी चाहिए |
  • यदि डॉक्टर द्वारा किसी भी प्रकार की दवाई गर्भावस्था के दौरान मिर्गी से ग्रसित महिला को दी जाती है तो उसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी जैसे लेने का समय, जोखिम, लाभ इत्यादि की जानकारी जरुर प्राप्त करें |

क्या मिर्गी की दवाओं के साथ गर्भ निरोधक दवाओं का उपयोग किया जा सकता है

गर्भावस्था एवं मिर्गी पर बात करने पर महिलाओं के अंतर्मन में यह भी प्रश्न अवश्य आता है, की क्या मिर्गी की दवाओं के साथ गर्भ निरोधक दवाओं का सेवन सुरक्षित है | इसी बात के मद्देनज़र हम यह बात मिर्गी से ग्रस्त महिलाओं को कहना चाहेंगे, की यदि आप मिर्गी की दवाओं के साथ गर्भ नियंत्रण के लिए गर्भ निरोधक दवाओं का भी सेवन करना चाहते हैं तो मिर्गी की कुछ दवाएं, गर्भ निरोधक गोलियों का असर बेअसर अर्थात  प्रभाव को कम कर सकती हैं । इसलिए गर्भ निरोधक गोलियों के माध्यम से गर्भ नियंत्रण करने वाली महिलाओं को इस विषय में अपने डाक्टर से बातचीत अवश्य करनी  चाहिए । क्योंकि इस स्थिति से निपटने के लिए चिकित्सक द्वारा समबन्धित महिला को अलग किस्म की एंटी एपीलोप्टिक (मिर्गी रोधी) दवाएं दी जा सकती हैं | इसके अलावा चिकित्सक समबन्धित महिला की अनचाही मिर्गी के दौरों को रोकने के लिए कोई अन्य तरीका भी बता सकता है | गर्भावस्था एवं मिर्गी के दौरान निम्नलिखित परिस्थतियों में सम्बंधित महिला को चिकित्सक से बात करनी चाहिए |

  • यदि गर्भावस्था के दौरान मिर्गी के दौरों की संख्या या दौरे के दौरान महिला को पहले की तुलना में कुछ अलग ही अनुभव होने लगे तो डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए |
  • गर्भावस्था के दौरान जब भी महिला बीमार हो क्योंकि इस दौरान मिर्गी के अलावा कोई अन्य बीमारी भी हो सकती है ।
  • जब भी गर्भावस्था एवं मिर्गी में महिला अपनी मिर्गी की दवा बदलें या फिर किसी अन्य दवा का उपयोग करे तो उसे डॉक्टर की सलाह अवश्य लेनी चाहिए |

अन्य सम्बंधित लेख:

मिर्गी के दौरों के साथ आनंदमय जीवन जीने के तरीके |

यदि किसी को मिर्गी का दौरा पड़ जाय तो उस वक्त क्या करना चाहिए |

मिर्गी की बीमारी के कारण, लक्षण एवं उपचार |   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *