गैस का घरेलू ईलाज करने के लिए तीस बेहतरीन उपाय एवं नुश्खे

वर्तमान में पेट में गैस होना हर किसी की एक सामान्य समस्या है इसलिए हर कोई गैस का घरेलू ईलाज कैसे होगा इन उपायों के बारे में जानने की कोशिश करता है | सामान्य भाषा में यदि हम यदि इस बीमारी को परिभाषित करने की कोशिश करेंगे तो हम पाएंगे की जब किसी व्यक्ति के पेट में हवा इकट्ठी होकर पेट में इधर उधर भ्रमण करने लगती है तो हम इसे पेट की गैस के नाम से जानते हैं | हालांकि इस रोग को अन्य नामों जैसे आध्मान, उदर-वायु, आफरा आना, गैस भरना, गैस बनना, वायु इकट्ठी होना भी कहते हैं । जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में भी बता चुके हैं की पेट में हवा एकत्रित होने की स्थिति ही गैस है और यह विभिन्न कारणों जैसे अपच, कब्ज के कारण पेट में इकट्ठी होती है | पेट में ज्यादा हवा इकट्ठी होने से पेट फूल जाता है जिसे Distension भी कहा जाता है । पेट में गैस बनने के कारण बहुत बार व्यक्ति के हृदय में फड़फड़ाहट (Fluttering) होने लगती है जिसे कई लोग हृदय रोग समझने लगते हैं । जबकि सच्चाई यह होती है की यह पेट में गैस की वजह से होने वाली गड़बड़ की वजह से होती है । पेट में गैस होने के कारण कभी कभी पेट काफी सख्त हो जाता है ।

गैस का घरेलू ईलाज

गैस न बने क्या इसके लिए मसाले एवं चिकनाई वाली चीजें छोड़ देनी चाहिए?

गैस न बने इसके लिए व्यक्ति को अनेकों परहेज करने पड़ सकते हैं लेकिन स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने के लिए भोजन में मसालों का उपयोग भी अति आवश्यक है | और कुछ नहीं भी तो हर व्यक्ति द्वारा कम से कम हल्दी, धनिया, नमक, और  मिर्च का उपयोग तो मसालों के तौर पर किया ही जाता है | इसमें अनेक मसाले ऐसे भी होते हैं जो पेट की गैस का घरेलू ईलाज करने में सहायक होते हैं जैसे वायु प्रकृति को ठीक करने के लिए भुने हुए हींग का इस्तेमाल किया जा सकता है | पित्त प्रकृति को ठीक करने के लिए जीरे का और काफ प्रकृति को ठीक करने के लिए गरम मसालों का उपयोग किया जा सकता है | जहाँ तक चिकनाई वाली चीजों को छोड़ने का सवाल है सच तो यह है की रूखा भोजन पेट में वायु को बढ़ाता है । पेट में हवा यानिकी Gas formation जरुरत से ज्यादा रूखे भोजन के सेवन के कारण उत्पन्न होती है | इसलिए इस स्थिति में सामान्य मात्रा में चिकनाई वाले पदार्थ जैसे तेल, घी इत्यादि का इस्तेमाल किया जा सकता है | ऐसे लोग जो माँसाहार अधिक करते हों वे रूखे भोजन का सेवन कर सकते हैं क्योंकि उन्हें उपयुक्त चिकनाई मांस की चरबी से प्राप्त हो जाती है |  पेट की गैस का घरेलू ईलाज करते वक्त यदि रोगी के भोजन में मसालेयुक्त सब्जियाँ, घी, दूध, दही, मीठा इत्यादि उपलब्ध हो तो इसे उत्तम भोजन माना जा सकता है |

पेट की गैस का घरेलू ईलाज करने के लिए उपाय एवं नुश्खे:

  1. खाने के साथ सलाद के रूप में मूली को उपयोग में लाया जा सकता है मूली के ऊपर नमक एवं काली मिर्च पाउडर छिड़का जा सकता है | नमक एवं काली मिर्च मिली मूली लगभग तीन महीने तक भोजन के साथ खाने से पेट की गैस में आराम मिलता है |
  2. भोजन खाने के बाद मिठाई के तौर पर गुड़ का सेवन करना भी गैस में लाभकारी होता है |
  3. नारंगी एक ऐसा फल है जो लीवर के विभिन्न रोगों में लाभ पहुंचाता है इसलिए ऐसे व्यक्ति जिनका गैस या अन्य किसी कारण से पेट फूलता हो उनके लिए यह लाभकारी है | सुबह सुबह एक गिलास नारंगी का रस पीने से आंते साफ हो जाती हैं और कब्ज नहीं होती है |
  4. अमरूद से पेट की गैस का घरेलू ईलाज करने के लिए अमरुद को काटकर टुकड़ों में सेंधा नमक मिलाकर खाया जा सकता है |
  5. गाजर का रस एवं कच्ची गोभी का रस बराबर की मात्रा मिलाकर पीने से भी पेट की गैस नहीं बनती है |
  6. गैस का घरेलू ईलाज करने के लिए आलू को भी उपयोग में लाया जा सकता है इसके लिए कच्चे आलू का रस बना लें और उस रस को आधा कप सुबह एवं आधा कप शाम को लें गैस नहीं बनेगी |
  7. बथुए का साग बनाने के लिए सबसे पहले इसे उबाल लें अब इस पानी को फेंके नहीं बल्कि बथुए को निचोड़कर साग बना लें और उबले हुआ पानी को पीने लायक होने पर पी जाएँ इससे गैस ठीक होती है |
  8. करेला भी पेट की गैस को ठीक करने में सहयक होता है इसके लिए रोगी को चाहिए की वह करेले की सब्जी या इसका जूस बनाकर पीये या फिर दोनों करे |
  9. जीरे से पेट की गैस का घरेलू ईलाज करने के लिए एक मुट्ठी जीरा लें उसे तवे पर सेक दें उसके बाद उसे पीस लें अब एक चम्मच जीरा एक चम्मच शहद के साथ रोज भोजन करने बाद खाएं |
  10. पेट की गैस में काली मिर्च का फायदा लेने के लिए दस काली मिर्च लीजिये और इन्हें अच्छी तरह पीस लें | उसके बाद एक नीबूं लें और इसे गरम पानी में निचोड़ लें अब काली मिर्च चूर्ण की सुबह शाम इस पानी से फंकी लें |
  11. एक पात्र में एक गिलास पानी लें और उसमे दो चम्मच सूखा धनिया डालकर उबलने के लिए रख दें उबलने के बाद इस पानी को छान लें और बराबर की मात्रा में इसका सुबह शाम सेवन करें |
  12. दालचीनी से भी पेट की गैस का घरेलू ईलाज संभव है लेकिन ध्यान रहे इसे बेहद कम मात्रा में लें अधिक मात्रा में इसके सेवन से नुकसान हो सकता है |
  13. सहजन के फूल या फली की सब्जी भी पेट के गैस में लाभदायक होती है |
  14. साँसे लेने एवं छोड़ने के तरीके से भी पेट की गैस का घरेलू ईलाज किया जा सकता है इसके लिए रोगी को सीधे लेटना होगा और फिर लगभग आठ बार लम्बी लम्बी साँसे लेनी होंगी | और इसके बाद रोगी को दाहिनी करवट लेटना होगा और सोलह बार लम्बी साँसे लेनी होंगी | उसके बाद बाएं करवट बत्तीस साँसे लेनी होंगी ऐसा करने से खाया हुआ खाना अपने स्थान पर पहुँच जाता है और गैस डकार के रूप में या अपना वायु के रूप में गुदा के रस्ते बाहर निकल आती है |
  15. एक पात्र में आधा कप पानी लेकर उसे उबलने के लिए चूल्हे पर रख दें अब उस पानी में पांच लौंग पीसकर डाल दें और जब यह पानी पीने योग्य हो जाय तो इसे पी लें | प्रतिदिन तीन बार यह प्रक्रिया करने पर पेट की गैस ठीक हो जाती है
  16. हींग से पेट की गैस का घरेलू ईलाज करने के लिए गरम पानी लें और उसमे हींग को घोल दें और फिर इस घुली हुई हींग का लेप पेट में नाभि के आस पास करें | दूसरी विधि से फायदा लेने के लिए एक ग्राम हींग को भून लें फिर इसे किसी के साथ भी खा लें पेट की गैस से दर्द होने की स्थिति में एक पात में आधा लीटर पानी लेकर उसे उबालें और उबलते पानी में दो ग्राम हींग दाल दें | उसके बाद जब पानी लगभग 120 मिलीलीटर रह जाय तो इसे निकाल दें और पीने योग्य होने पर पी जाएँ |
  17. छह ग्राम अजवाइन को पीस लें उसके बाद इस पीसी हुई अजवाइन में डेढ़ ग्राम लगभग काला नमक मिल दें और खाना खाने के बाद ग्राम पानी से इस चूर्ण की फंकी लें | यह पेट की हवा को बाहर निकलने में सहयक होती है इसके अलावा आप चाहे तो अजवाइन को अन्य किसी तौर पर भी ले सकते हैं |
  18. पेट की गैस का घरेलू ईलाज के लिए बैंगन का भी उपयोग किया जा सकता है इसके लिए फ्रेश लम्बे बैगन की सब्जी मौसम में खाते रहें | यह मुख्य रूप से पेट फूलने,हवा भर जाने में फायदेमंद होता है |
  19. पच्चीस ग्राम पुदीने का रस तैयार कर लें और इसमें लगभग इकत्तीस ग्राम शहद मिला लें उसके बाद इसे पी जाएँ इससे पेट की गैस में खास तौर पर लाभ होता है |
  20. पेट की गैस में मेथी का उपयोग भी लाभकारी है इसके लिए रोगी मेथी के पाटों का साग बनाकर खा सकता है या फिर दाना मेथी, अर्जुन की छाल, कैर, आँवला बराबर की मात्रा में लेकर इन्हें पीसकर चूर्ण बनाकर ठन्डे पानी से सुबह शाम बिना कुछ खाए एक एक चम्मच सेवन कर सकता है |
  21. हालांकि कहते हैं की दूध गैस बनाता है लेकिन यदि उबालते समय दूध में एक पीपल डाल दिया जाय और फिर इसे पीया जाय तो यह पेट की हवा को बाहर निकलने में मदद करता है |
  22. पेट की गैस का घरेलू ईलाज के लिए अदरक को भी इस्तेमाल में लाया जा सकता है इसके लिए लगभग छह ग्राम अदरक लीजिये और उसके बारीक से टुकड़े कर दीजिए अब इनमें नमक लगाकर इन्हें खा लें | हर रोज लगातार दस दिनों तक ऐसा करने से पेट की गैस दूर हो जाती है |
  23. बहुत बार नाभि का अपने स्थान से हट जाना भी पेट की गैस का कारण होता है इसलिए इसका उपचार करने में सरसों के तेल का यह उपाय फायदेमंद है | नाभि को अपनी जगह सही बैठाने के लिए सरसों के तेल को नाभि पर लगाया जा सकता है या फिर थोड़ी सी रुई सरसों के तेल में डुबोकर नाभि पर रखकर बांधी जा सकती है |
  24. नींबू के रस में जायफल को घिसकर चाटने से पेट साफ़ होता है जिससे गैस दूर हो जाती है |
  25. सेंधा नमक एवं देशी चीनी जिसे बूरा भी कहा जाता है को मिला लें एवं फिर इन्हें अच्छी तरह पीस लें | उसके बाद इस चूर्ण को हर रोज गरम पानी के साथ आधा चम्मच लें इससे भी पेट की गैस दूर हो जाती है |
  26. गरम पानी से भी गैस का घरेलू ईलाज संभव है इसके लिए रोगी को भोजन के बाद जितना गरम पानी उससे पीया जा सकता है पीने से कुछ ही हफ़्तों में गैस ठीक हो जाती है |
  27. खाना खाने के बाद नींबू के रस में भीगी हुई सौंफ खाने से भी पेट की गैस बाहर निकलती है और इससे मल साफ़ होने के साथ साथ भूख भी अच्छी लगती है |
  28. पाचन अंगों पर सेब का रस एक पतली परत चढ़ा देता है जिससे पाचन अंग संक्रमण एवं बदबू से बच जाते हैं और इसके सेवन से पेट में गैस का बनना भी बंद हो जाता है |
  29. हल्दी से गैस का घरेलू ईलाज करने के लिए पांच ग्राम पीसी हल्दी लें और उसमें पांच ग्राम नमक मिला लें फिर इसे ग्राम पानी के साथ पी जाएँ पेट की गैस में शीघ्र लाभ होगा |
  30. गरम पानी में नींबू निचोड़ लें और लगभग दस काली मिर्च पीसकर उसका चूर्ण बना लें और इस चूर्ण को इस पानी से फंकी मारें | दूसरी विधि से फायदा लेने के लिए तीन लौंग, छह काली मिर्च और स्वादानुसार खाने वाला नमक को एक कप पानी में उबाल लें उसके बाद पीने योग्य होने पर उसे पी जाएँ इससे भी पेट की गैस दूर होती है |

अन्य पढ़ें

About Author:

Post Graduate from Delhi University, certified Dietitian & Nutritionists. She also hold a diploma in Naturopathy.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *