चेहरे के मुहांसे ठीक करने के कुछ घरेलू उपचार |

चेहरे के मुहांसे आने की प्रक्रिया को चेहरे पर पिम्पल्स आना भी कहा जाता है एक पिम्पल या मुहांसे का अर्थ चेहरे पर उत्पन्न छाले से लगाया जा सकता है | ये त्वचा में संक्रमण के चलते सूजन के साथ विकसित होते हैं | कहा जाता है की चेहरे पर मुहांसों की उत्पति तब होती है जब त्वचा में उपस्थित वसामय ग्रंथियां सुस्त एवं संक्रमित हो जाती हैं इससे चेहरे पर दाने निकल आते हैं जिनमे मवाद भरा हो सकता है | चेहरे पर मुहांसों का विकास मुख्य रूप से तेल उत्पादन, मृत त्वचा कोशिकाओं, भरा हुआ छिद्र और बैक्टीरिया से जुड़ा हुआ है | हालांकि यीस्ट संक्रमण के विकसित होने से भी pimples हो सकते हैं | वसामय ग्रंथियां जो बालों के follicles के बेस पर स्थित होती हैं ये  hormone dysregulation के कारण जरुरत से ज्यादा सक्रीय हो सकती हैं जिसके कारण मुहांसे या Pimples योवनावस्था में अधिक निकलते हैं | कहने का आशय यह है की जब कोई लड़का लड़की जवानी की दहलीज पर कदम रखती हैं तब चेहरे पर कील मुहांसे अर्थात पिम्पल होने के खतरे अधिक रहते हैं | जैसा की हर रोग में होता है इसमें भी हो सकता है यदि प्रभावित लड़का लड़की ने लापरवाही बरती तो ये एक समयावधि के बाद ठीक तो हो जाते हैं लेकिन अपने निशान अर्थात चेहरे पर दाग धब्बे छोड़ सकते हैं | जैसा की हम बता चुके हैं की पिम्पल या चेहरे के मुहांसे एक समयावधि में अपने आप ठीक हो जाते हैं लेकिन यदि कोई प्रभावित  लड़का लड़की इन्हें जल्दी ठीक करना चाहते हैं तो वे निम्न घरेलू उपचारों को इन्हें जल्दी ठीक करने के लिए आजमा सकते हैं |

चेहरे के मुहांसे Pimple-muhase treatment in hindi

 

मुहांसे रोकने के लिए सावधानियां (Precautions for Pimples):

यद्यपि जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं की पिम्पल होने के लिए वसामय ग्रंथियों का जरुरत से अधिक सक्रीय होकर पिम्पल आने का कारण बनते हैं इसलिए यह समस्या योवनावस्था में किसी को भी हो सकती है लेकिन यदि पहले से कुछ सावधानियां बरती जाय तो इसके होने के खतरे को कुछ हद तक कम अवश्य किया जा सकता है |

  • चेहरे पर मुहांसे के खतरे को कम करने के लिए तला हुआ एवं मसालेदार भोजन का सेवन कम करें |
  • कम से कम 8 घंटे की नींद अवश्य लें |
  • अधिक पानी पीने की आदत डालें |
  • कॉस्मेटिक सामग्री का उपयोग बिलकुल न करें |
  • फल एवं सब्जी को अधिक मात्रा में खाएं |
  • चेहरे की त्वचा को साफ़ जल से बिना साबुन लगाये दिन में कई बार धोएं चेहरे की त्वचा के छिद्र खोलने के लिए सुबह, शाम, दोपहर भाप ले सकते हैं |

चेहरे के मुहांसे ठीक करने के घरेलू उपचार:

  • संतरे के छिलकों को सूखाकर फिर इन्हें पीसकर बनाया गया बारीक पाउडर के साथ उतनी ही मात्रा में बेसन मिलाकर मिश्रण तैयार कर लें और इस मिश्रण को आवश्यकतानुसार पानी मतलब इतना की गाढ़ा लेप या घोल प्रकार का बन जाय मिला लें | उसके बाद इस लेप को पप्रभावित स्थल पर लगायें पन्द्रह मिनट तक लगा रहने के बाद गुनगुने पानी से चेहरा धो लें यह प्रयोग नियमित तौर पर 5-7 हफ़्तों तक करने से चेहरे के कील मुहांसे यानिकी पिम्पल ठीक हो जाते हैं |
  • नीम के कुछ पत्ते लेकर उन्हें अच्छी तरह पीसकर उनका गाढ़ा लेप तैयार कर लें और पीसते वक्त उसमे थोड़ी सी हल्दी भी मिला लें अब इस लेप को चेहरे पर लगायें और 20-25 मिनट बाद साफ़ पानी से चेहरे को धो लें यह प्रक्रिया तब तक जारी रखे जब तक चेहरे के मुहांसे ठीक न हो जाएँ |
  • गुलाब की पंखुड़ी को नींबू का रस मिलकर पीस दें और इस मिश्रण को रुई की मदद से अपने चेहरे पर हलके हल्के रगड़े और आधे घंटे बाद चेहरा धो लें यह प्रक्रिया नियमित तौर पर करने से भी कील मुहांसों से छुटकारा मिलता है |
  • एलोवेरा रस के साथ मुल्तानी मिटटी एवं हल्दी का मिश्रण तैयार कर लें और इस मिश्रण को प्रभावित चेहरे पर लगायें या प्रक्रिया करने पर भी चेहरे के मुहांसे ठीक हो जाते हैं |
  • पुदीना के पत्ते, तुलसी के पत्ते, नीम के पत्ते और हल्दी मिलाकर इन्हें अच्छी तरह पेस्ट तैयार कर लें और इन्हें कील मुहांसों पर लगायें नियमित तौर पर इसका प्रयोग करने पर भी चेहरे पर उपलब्ध कील मुहांसे ठीक हो जाते हैं |
  • चेहरे पर उत्पादित मुहांसों पर प्रातः उठते ही बासी थूक लगाने से भी चेहरे के मुहांसे ठीक हो जाते हैं |
  • मुनक्के के 7 पीस को रात को पानी में भिगो दें और सुबह उनका बीज निकालकर खा लें जो पानी है उसे फांके नहीं उसे भी पी जाएँ यह सब प्रक्रिया से रक्त की सफाई होती है और कील मुहांसे निकलने बंद हो जाते हैं |

About Author:

Post Graduate from Delhi University, certified Dietitian & Nutritionists. She also hold a diploma in Naturopathy.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *