मानव शरीर में पाए जाने वाले पोषक तत्व की जानकारी.

मानव शरीर में पाए जाने वाले पोषक तत्व की बात करें तो इनमे कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate),  प्रोटीन (Protein), वसा (Fat), विटामिन (Vitamins), खनिज लवण (Mineral salts), जल या पानी (Water) इत्यादि मुख्य हैं | आइये शरीर में पाए जाने वाले इन पोषक तत्वों के बारे में थोड़ा संक्षिप्त तौर पर जानने की कोशिश करते हैं |

शरीर में पाए जाने वाले पोषक तत्व में शामिल है कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate) :

हमारे आहार का सबसे बड़ा अंश कार्बोज़ का है एवं शरीर में उत्पन्न होने वाली अधिकांश शक्ति का स्रोत है । स्टार्च (starch) और शर्करा (sugar) ये कार्बोज़ के दो प्रधान वर्ग होते हैं ।

प्रोटीन (Protein):

शरीर में पाए जाने वाले पोषक तत्व में प्रोटीन भी सम्मिलित है |  प्रोटीन आहार का अत्यंत आवश्यक अंश है । ये प्रधानतः नाइट्रोजन तत्वयुक्त होता है तथा इससे शरीर की कोशिकाओं के प्रोटोप्लाज्म ऊतक तथा कोष्ठांगों की रचना होती है । यह सामान्यतः सोयाबीन, दाल, दूध, पनीर, मूंगफली, चने, मूंग की दाल आदि में पाया जाता है ।

वसा (Fat) पोषक तत्व :

वसा में भी कार्बोज़ के समान कार्बन हाइड्रोजन तथा ऑक्सीजन पोषक तत्व होते हैं । परंतु इनका अनुपात भिन्न होता है । मक्खन, घी, वनस्पति स्त्रोत वाली वसा का प्रायः आहार में उपयोग होता है ।

खनिज लवण (Mineralsalts) :

शरीर में पाए जाने वाले पोषक तत्व में खनिज लवण मुख्य तत्व हैं | खनिज लवण हमारे शरीर में होने वाली सभी जैविक क्रियाओं के लिए आवश्यक होता है । हम भोजन द्वारा इन खनिज लवणों को ग्रहण करते हैं । ये सब खनिज लवण शरीर में भी विद्यमान रहते हैं । मुख्य खनिज पोषक तत्व इस प्रकार हैं – कैल्शियम, फ़ॉस्फोरस, लोहा, सोडियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम, आयोडीन।

कैल्शियम (Calcium) :

यह मुख्यतः हड्डियों तथा दाँतों में पाया जाता है तथा इनके निर्माण के लिए आवश्यक होता है । कैल्शियम द्वारा हड्डियाँ मज़बूत और कठोर होती हैं । सामान्यतः इसकी आवश्यकता वयस्क में प्रतिदिन 1 ग्राम प्रतिदिन होती है । गर्भवती स्त्रियों में 1% ग्राम प्रतिदिन होती है । कैल्शियम दूध, दही, पनीर, चूना, बादाम और मूली, गोभी के पत्तों में, मैथी, सहजन की पत्ती, गाजर में तथा दालों में पाया जाता है ।

शरीर में पाए जाने वाले पोषक तत्व में फॉस्फोरस (Phosphorus):

यह शरीर में मुख्यतः प्रत्येक कोशिका में पाया जाता है । यह हड्डियों और दाँतों के निर्माण में सहायक होता है । यह तंत्रिका तंत्र को स्वस्थ रखता है । गर्भवती स्त्रियों एवं बच्चों को इसकी अधिक आवश्यकता होती है । फ़ॉस्फोरस नामक यह पोषक तत्व मुख्य रूप से पत्तागोभी, सेब, मूली, सोयाबीन, गाजर, भुट्टा आदि में पाया जाता है ।

लोहा (Iron):

लोहा भी शरीर में पाए जाने वाले पोषक तत्व की लिस्ट में सम्मिलित है |  यह रक्त के लाल कोशिकाओं में Hb (Haemoglobin) के निर्माण में अधिक उपयोगी होता है । सामान्यतः एक व्यक्ति को प्रतिदिन 20-30 mg लोहे की आवश्यकता होती है । यह सेब, पालक, मटर, मैथी, गुड़, गाजर, खीरा, प्याज़, टमाटर, अँगूर आदि में पाया जाता है ।

सोडियम (Sodium) :

सामान्यतः इसे हम दैनिक भोजन में नमक के रूप में इसे ग्रहण करते हैं । यह लवण में क्लोरीन के साथ मिलकर सोडियम क्लोराइड बनाता है । सामान्यतः इस पोषक तत्व की शरीर को आवश्यकता प्रतिदिन 2 से 5 ग्राम होती है ।

पोटेशियम (Potassium) :

शरीर में पोटेशियम की मात्रा सबसे ज्यादा (Intercellular fluid) अंतःकोशिका तरल में होती है । पोटेशियम कोशिकाओं में होने वाली रासायनिक क्रियाओं में आवश्यक होता है । यह तंत्रिका आवेगों के संचारण के लिए आवश्यक होता है । सामान्यतः इसकी आवश्यकता एक व्यक्ति में प्रतिदिन लगभग 4 ग्राम होती है । यह पोषक तत्व विशेषकर प्रोटीनयुक्त खाद्य पदार्थों में पाया जाता है ।

मैग्नीशियम (Magnesium) :

शरीर में पाए जाने वाले तत्वों में यह तत्व शरीर में हड्डियों तथा दाँतों में पाया जाता है । मानव शरीर में 50% मैग्नीशियम हड्डियों में होता है । एक सामान्य मनुष्य को प्रतिदिन 200 से 300mg, मैग्नीशियम (Magnesium) की आवश्यकता होती है । यह फलों तथा सब्ज़ियों में अधिक मात्रा में पाया जाता है ।

आयोडीन (Iodine):

हमारे शरीर में गले पर थायरॉइड नाम एक ग्रंथि होती है । जिसको सुचारु रूप से चलाने में आयोडीन काम आता है । यह थायरॉइड को हारमोन जैसे थायरॉक्सिन तथा ट्राई आयडोथाइरोमिन के निर्माण में सहायक होता है । आयोडीन प्याज़ में अधिक मात्रा में पाया जाता है (हालाँकि आयुर्वेद में प्याज़ को तामसिक माना गया है) । समुद्री पदार्थ व नमक में पाया जाता है । इसकी कमी से घेघा (Goitre) रोग होता है ।

शरीर में पाए जाने वाले पोषक तत्व में शामिल हैं विटामिन (Vitamin) :

विटामिन आवश्यक रासायनिक यौगिक होते हैं जो सूक्ष्म मात्रा में प्रायः सभी खाद्य पदार्थ में पाए जाते हैं । विटामिन दो प्रकार के होते हैं । वसा घुलनशील एवं जल घुलनशील । वसा में घुलनशील विटामिन (fat soluble) A,D, E, K हैं और जल में घुलनशील विटामिन (water soluble) B तथा C विटामिन  हैं |

पोषक तत्व विटामिन

विटामिन A:

शरीर में पाए जाने वाले पोषक तत्व में  विटामिन A वनस्पतियों में तथा Carotene के रूप में मिलता है । यह प्रो-विटामिन रेटिनोल में प्रतिवर्तित होता है । यह क्रिया प्रायः आँतों में होती है । विटामिन- A हमारी दृष्टि क्षमता को बढ़ाता है । यह विटामिन रेटिनल पिगमेंटस् को बनाने में मदद करता है जो कि कम रोशनी में देखने में काम करते हैं । यह विटामिन शरीर की संक्रामक रोगों से रक्षा करता है । यह विटामिन प्रजनन शक्ति को बनाए रखने में सहायक होता है तथा अस्थि कोशिकाओं के निर्माण को नियंत्रित करता है । यह प्रायः हरी सब्ज़ियों, गाजर, पपीता, बटर (मक्खन) तथा दूध में पाया जाता है । इसकी कमी से रतौंधी (night blindness), शुष्काक्षिपाक (xerophthalmia), नामक बीमारियाँ होती हैं ।

विटामिन ए की अधिक जानकारी के लिए पढ़ें |

विटामिन D :

शरीर में पाए जाने वाला यह पोषक तत्व प्रायः दो प्रकार का होता हैं ।

D2 Calcifer of Cholecalciferol D3 विटामिन D हमारे शरीर में कैल्शियम के Absorption में सहायक होता है । यह विटामिन हड्डियों के निर्माण में सहायक है । यह Kidney में Phosphorus के निर्माण में मदद करता है । हमें सबसे ज़्यादा विटामिन D सूर्य ऊर्जा से मिलता है । इसकी कमी से रिकेट्स (Ricketts) बच्चों में तथा Osteomalacia बड़ों में हो जाता है ।

विटामिन डी की अधिक जानकारी के लिए पढ़ें |

विटामिन E:

यह विटामिन त्वचा में घुलनशील होता है । इसको टोकोफेरोल के नाम से भी जानते हैं । यह मुख्यतः वनस्पति तेल, रुई के बीज, सूरजमुखी के बीज, बटर (मक्खन) में पाया जाता है । इसकी आवश्यकता 0.8mg. प्रतिदिन होती है । यह विटामिन अपने प्रति-ऑक्सीकारक (Antioxident) गुणों के कारण शरीर में अनावश्यक ऑक्सीकरण को रोकता है । यह विटामिन बंध्यता (Sterility) को रोकता है । शरीर में पाए जाने वाला यह तत्व गर्भ के विकास में अधिक सहायक होता है ।

विटामिन ई की अधिक जानकारी के लिए पढ़ें |

विटामिन K:

इसे हम रक्तस्त्रावरोधी कारक विटामिन के नाम से जानते हैं । यह मुख्यतः हरी सब्ज़ियों तथा फलों में पाया जाता है । यह गाय के दूध में अधिक मात्रा में पाया जाता है ।

विटामिन के की अधिक जानकारी के लिए पढ़ें |

विटामिन B :

यह विटामिन बी कॉम्प्लेक्स में पाया जाता है । जैसे –

  • Vitamin – B1 Complex
  • Vitamin –B2 Riboflavin
  • Vitamin – B6 Pyridoxine
  • Vitamin – B3 Pantothenic acid
  • Vitamin – B12 Cyanocobalamin

विटामिन C (Ascorbicacid):

इस विटामिन को अर्थात शरीर में पाए जाने वाले इस पोषक तत्व को हम एसकारबिक एसिड के नाम से भी जानते हैं । यह विटामिन जल में घुलनशील होता है तथा ऊष्मा से नष्ट हो जाता है । यह विटामिन प्रायः ताज़े फलों में विशेष रूप से पाया जाता है जिनमें Citrus acid (सिट्रस एसिड) होता है । जैसे- संतरा, नीबू, नारंगी, आँवला, टमाटर, पपीता, अँगूर, चुकंदर आदि । यह विटामिन इंसुलिन के उत्पादन में सहायक होता है । इसकी कमी हो जाने से स्कर्वी scurvy रोग हो जाता है ।

विटामिन सी की अधिक जानकारी के लिए यह पढ़ें |

About Author:

Post Graduate from Delhi University, certified Dietitian & Nutritionists. She also hold a diploma in Naturopathy.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *