Vitamin B1 कार्य उपयोगिता स्रोत एवं कमी से होने वाला रोग

Vitamin B Complex की बात करें तो इसके बारह से अधिक अंश अब तक खोजे जा चुके हैं जिनके बारे में हम मिनरल और विटामिन नामक इस श्रेणी में वार्तालाप करते रहेंगे | लेकिन आज इस लेख के माध्यम से हम इसके पहले अंश Vitamin B1 के बारे में वार्तालाप करेंगे | यद्यपि पहले इन पूरे अंशों को केवल Vitamin B के नाम से जाना जाता था लेकिन जैसे जैसे खोज होती रही तो उनसे पता चला की विटामिन बी अनेक वस्तुओं का सम्मिश्रण है | इसलिए अब इस विटामिन को Vitamin B Complex के नाम से जाना जाता है | विटामिन बी समुदाय के अलग अलग अंश अलग अलग कार्यों का निष्पादन करने में सहायक होते हैं, इसलिए आइये जानते हैं इस समुदाय के पहले अंश Vitamin B1 के बारे में |

Vitamin-B1

Vitamin B1 क्या है:

Vitamin B1 विटामिन बी काम्प्लेक्स के समुदाय से जुड़ा एक विटामिन है इस विटामिन को एन्यूरिन या थायामिन के नाम से भी जाना जाता है | और कहा यह जाता है की इस विटामिन की खोज का इतिहास बेरी बेरी रोग से जुड़ा हुआ है | वर्तमान समय में Vitamin B1 अलग अलग बीमारियों अर्थात कई तरह के रोगों को दूर करने में महत्वपूर्ण स्थान निभाता है | जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में भी बता चुके हैं की इस विटामिन को थियामिन हाइड्रोक्लोराइड या एन्यूरिन भी कहा जा सकता है चूँकि यह बेरी बेरी नामक रोग को दूर करने में सहायक होता है इसलिए इसे एंटी बेरी बेरी विटामिन भी कहा जा सकता है | ध्यान देने वाली बात यह है की भोजन में Vitamin B1 की अनुपस्थिता या फिर न्यूनता से कार्बोहायड्रेट का चूषण नहीं हो पाता है |

Vitamin B1 के स्रोत (Sources of Vitamin B1 In Hindi):

विटामिन बी1 निम्न खाद्य पदार्थों में अधिक पाया जाता है |

  • यह विटामिन अनाज के अन्तस्थ मूलांकुरों में अधिक पाया जाता है |
  • घर पर ओखली मूसल से कूटे गए चावलों के बाह्य आवरण में भी Vitamin B1 पाया जाता है |
  • मशीन से कूटे हुए चावलों में यह इसलिए विद्यमान नहीं होता क्योंकि इन्हें पोलिश के रूप में छिल दिया जाता है |
  • आलू, दूध, हरे सागों में भी यह विटामिन पाया जाता है |
  • माँसाहारी भोजन जैसे अंडा, यकृत एवं बकरे की अंडग्रंथि इत्यादि में भी यह पाया जाता है |
  • आसव अरिष्ट के किणव (Yeast) में भी यह विशेष रूप से पाया जाता है |

 Vitamin B1 के कार्य एवं उपयोगिता :

विटामिन बी1 रक्त प्लाविका यानिकी प्लाज्मा मानव रक्त के तरल भाग में प्रोटीन को उपयुक्त मात्रा में संतुलित रखता है | जब Vitamin B1 की मात्रा घट जाती है तो रक्त कोशिकाओं से रक्त में तरल भाग रिसकर बाहर जाने लगता है इसी कारण शरीर में सूजन उत्पन्न हो जाती है | Vitamin B1 आंतड़ियों की मांसपेशियों को शक्ति प्रदान करता है एवं आंतड़ियों की श्लेष्मिक कला को मजबूत एवं शक्तिशाली बनाता है | यही कारण है की विभिन्न रोगों के जीवाणु कीटाणु अंतड़ियों में प्रवेश कर पाने में असमर्थ होते हैं | यह विटामिन ह्रदय, वृक्क, यकृत एवं पाचन संस्थान को शक्तिशाली एर्व्म तन्दुरस्त बनाये रखने में सहायक होता है |

Vitamin B1 की कमी से होने वाला रोग एवं इसके कारण :

Vitamin B1 नामक इस विटामिन की कमी से बेरी बेरी नामक बीमारी हो जाती है जिसके परिणामस्वरूप मष्तिष्क तथा तांत्रिक तन्तुयें क्षोभयुक्त हो जाती हैं | इस विटामिन की कमी से ह्रदय बहुत ही दुर्बल, बढ़ी हुई धडकन वाला हो जाता है इसके अलावा समस्त शरीर शिथिल भी पड़ जाता है | जहाँ तक इस विटामिन की कमी से होने वाले रोग बेरी बेरी के होने के कारणों का सवाल है अक्सर देखा गया है की बेरी बेरी नामक यह रोग ऊँ व्यक्तियों को अधिक होता है जो मशीन से साफ़ और पोलिश किये हुए चावल या महीनों तक सूखा अन्न खाते हैं | लेकिन हरी साग सब्जियों एवं Vitamin B1 से युक्त भोज्य पदार्थों का सेवन नहीं करते हैं | बेरी बेरी नामक यह बीमारी दो प्रकार आर्द्र बेरी बेरी एवं शुष्क बेरी बेरी होती है |

अन्य समबन्धित लेख:

विटामिन डी की विशेषताएं एवं कमी से होने वाले रोग

विटामिनों के प्रयोग के सम्बन्ध में कुछ जरुरी दिशानिर्देश

विटामिन ए के स्रोत कमी के लक्षण, लाभ एवं होने वाले रोग

विटामिन के के फायदे स्रोत कमी के लक्षण एवं लाभ की जानकारी

विटामिन ई के फायदे स्रोत एवं कमी के लक्षणों की जानकारी  

विटामिन सी के स्रोत लाभ एवं इसकी कमी से होने वाले रोगों की जानकारी  

About Author:

Post Graduate from Delhi University, certified Dietitian & Nutritionists. She also hold a diploma in Naturopathy.

One thought on “Vitamin B1 कार्य उपयोगिता स्रोत एवं कमी से होने वाला रोग

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *